रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी
रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी
रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी
रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी

"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी

टीम डिजिटल : गलत जीवनशैली और लगातार मोबाइल प्रयोग करने की लत के चलते हैदराबाद के करीब 79 फीसदी लोग अनिद्रा की बीमारी से जूझ रहे हैं। एक कंपनी द्वारा हैदराबाद में हुए सर्वे के बाद अनिद्रा की बीमारी से परेशान लोगों से जुड़े कुछ आंकड़े जारी किए गए हैं।सर्वे में इस बात का पता
  

रात में सोने से पहले छोड़ दे मोबाइल चलाने की आदत, फैल रही ये खतरनाक बीमारी

टीम डिजिटल : गलत जीवनशैली और लगातार मोबाइल प्रयोग करने की लत के चलते हैदराबाद के करीब 79 फीसदी लोग अनिद्रा की बीमारी से जूझ रहे हैं।

एक कंपनी द्वारा हैदराबाद में हुए सर्वे के बाद अनिद्रा की बीमारी से परेशान लोगों से जुड़े कुछ आंकड़े जारी किए गए हैं।सर्वे में इस बात का पता चला है कि बड़े शहरों का एक बड़ा वर्ग इन्साम्निया यानि की अनिद्रा की बीमारी के कारण बड़े पैमाने पर परेशान है। इस परेशानी के लिए इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स खासकर मोबाइल के इस्तेमाल को एक प्रमुख वजह माना गया है।

सर्वे की रिपोर्ट में यह कहा गया है कि हैदराबाद के करीब 79 फीसदी लोग इन्साम्निया की बीमारी से ग्रस्त हैं। सर्वे में यह पता चला है कि औसतन हैदराबाद के 48 फीसदी लोग रात 11 से 1 बजे के बीच में सोते हैं और इनमें एक बड़ा वर्ग ऐसा है जो सोते वक्त अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल करता है।

रिपोर्ट में बताया गया है, इसके अलावा 25 फीसदी लोग ऐसे हैं जो कि हर रात सिर्फ 7 घंटे की नींद ही ले पाते हैं। कंपनी के सर्वे के दौरान हैदराबाद के 89 फीसदी लोगों ने यह माना है कि रात के सोते वक्त 1-2 बार उनकी नींद जरूर टूटती है।

सर्वे में 90 फीसदी से अधिक लोगों ने यह माना है कि वह सोने से पहले अपने स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा कई लोगों ने इन्साम्निया के कारण थकावट और बैक पेन जैसी दिक्कतों के होने की बात भी स्वीकार की है।

Share this story