आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर

"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर

भोपाल : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत इस समय मध्यप्रदेश के दौरे पर हैं और वे इस दौरान भोपाल में प्रचारकों की बैठक ले रहे हैं। इस बीच कांग्रेस ने भागवत के मध्य प्रदेश प्रवास को लेकर हमला बोला है। संघ प्रमुख गुना में तीन दिनों तक युवाओं के शिविर में हिस्सा लेने
  

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की प्रचारकों के साथ बैठक, कांग्रेस हुई हमलावर

भोपाल : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत इस समय मध्यप्रदेश के दौरे पर हैं और वे इस दौरान भोपाल में प्रचारकों की बैठक ले रहे हैं। इस बीच कांग्रेस ने भागवत के मध्य प्रदेश प्रवास को लेकर हमला बोला है।

संघ प्रमुख गुना में तीन दिनों तक युवाओं के शिविर में हिस्सा लेने के बाद भोपाल पहुंचे हैं। उन्होंने अब चार दिनों तक भोपाल में डेरा डाला है। सोमवार और मंगलवार को शारदा विहार में संघ प्रचारकों के साथ बैठक प्रस्तावित है।

इस बैठक में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) सहित अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा संभावित है। वहीं संघ प्रमुख अनुषांगिक संगठनों के प्रतिनिधियों से भी चर्चा करेंगे।

संघ प्रमुख के राज्य दौरे को लेकर कांग्रेस हमलावर है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मानक अग्रवाल ने कहा है कि “मोहन भागवत को लेकर भोपाल की पुलिस अलर्ट रहे, क्योंकि वे जहां जाते हैं, वहां दंगे भड़काते हैं।”

इसी तरह पार्टी की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने इशारों-इशारों में सवाल उठाए। उन्होंने कहा, “राज्य में हर आने वाले का स्वागत है, मोहन भागवत का भी स्वागत है। मगर ऐसी कोई बात न करें, जिससे प्रदेश की शांति भंग हो, बस उनका कोई हिडन एजेंडा (छिपी हुई रणनीति) नहीं होना चाहिए।”

कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए भाजपा के मीडिया मामलों को देखने वाले कृष्ण गोपाल पाठक ने कहा, “संघ का सिर्फ एक ही एजेंडा है, वह है राष्ट्र सर्वप्रथम। संघ बीते 95 साल से इसी ध्येय और लक्ष्य को लेकर चल रहा है।

कांग्रेस को पेट में दर्द सिर्फ इसलिए हो रहा है, क्योंकि वह सत्ता को अपनी परंपरा और विरासत मान चुकी थी। उसे जनता ने 40-50 सीटों पर लाकर खड़ा कर दिया, इसलिए उनकी कुंठा चरम पर पहुंच गई है। कांग्रेस ने अपने आपको नहीं बदला तो उसे चार से पांच सीटों पर सिमटने में देर नहीं लगेगी।”

Share this story