रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध
रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध
रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध
रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध

"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध

नई दिल्ली : राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप में रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने चार साल का प्रतिबंध लगा दिया है। नाडा ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि इसी साल विशाखापट्टनम में आयोजित की गई राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में डोपिंग की जांच के लिए सीमा का
  

रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने लगाया चार साल का प्रतिबंध

नई दिल्ली : राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप में रजत पदक जीत चुकीं भारत की महिला भारत्तोलक सीमा पर राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने चार साल का प्रतिबंध लगा दिया है।

नाडा ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि इसी साल विशाखापट्टनम में आयोजित की गई राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में डोपिंग की जांच के लिए सीमा का नमूना लिया गया था।

बयान के मुताबिक उनकी डिटेल रिपोर्ट एडवर्स एनलिटक फाइंडिंग (एएएफ) के पास लौट कर आई थी, जिसमें प्रतिबंधित पदार्थो के नमूने पाए गए।इन सभी पदार्थो को विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) ने प्रतिबंधित कर रखा रखा है।

बयान के मुताबिक उनका अपराध तब और गंभीर हो गया जब उन्होंने अपने प्रदर्शन को बेहतर करने के लिए जारी चैम्पियनशिप में इन पदार्थ का सेवन किया जो साफ तौर पर धोखाधड़ी और नाडा के नियमों के उल्लंघन का मामला है।

Share this story