पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात
पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात
पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात
पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात

"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात

देहरादून : कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सतर्कता बरता रहा स्वास्थ्य विभाग चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों की तलाश में जुटा है। यह वह लोग हैं जो पिछले एक महीने में चीन से लौटे हैं। इनमें से अकेले 62 लोग पिछले 15 दिन के भीतर चीन से देहरादून आए हैं। केंद्र सरकार की ओर
  

पिछले एक महीने में चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों को तलाश रहा स्वास्थ्य विभाग, निगरानी के लिए टीमें तैनात

देहरादून : कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर सतर्कता बरता रहा स्वास्थ्य विभाग चीन से देहरादून लौटे 123 लोगों की तलाश में जुटा है। यह वह लोग हैं जो पिछले एक महीने में चीन से लौटे हैं। इनमें से अकेले 62 लोग पिछले 15 दिन के भीतर चीन से देहरादून आए हैं।

केंद्र सरकार की ओर से स्वास्थ्य विभाग को चीन से लौटे इन लोगों के नाम और पते भेजे गए हैं। केंद्र सरकार की गाइडलाइन के हिसाब से ऐसे लोगों को तलाश कर उनकी सेहत जांची जा रही है। विभाग को कुछ लोग मिले भी हैं, जिनकी स्वास्थ्य जांच कर काउंसलिंग की गई है।

सीएमओ डॉ. मीनाक्षी जोशी ने बताया कि पिछले एक महीने में चीन से लौटे लोगों का पता कर डॉक्टरों द्वारा उनकी स्वास्थ्य जांच और काउंसलिंग की जा रही है। डरने जैसी कोई भी बात नहीं है। एहतियातन इन लोगों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है।

आशाओं की भी जिम्मेदारी तय की

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. मीनाक्षी जोशी की अध्यक्षता में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे से निपटने को लेकर बैठक हुई। डॉ. मीनाक्षी ने बताया कि इससे बचाव के लिए आशा कार्यकर्ताओं की भी जिम्मेदारी तय कर दी गई है। आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर उन लोगों की पहचान करेंगी जो पिछले एक माह के भीतर चीन से देहरादून लौटे हैं।

सीएमओ ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव की तैयारियों की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि हाल में चीन से लौटे लोगों को अगर सर्दी, जुकाम या बुखार है तो उन्हें संदिग्ध मरीज श्रेणी में मानकर अस्पतालों में समुचित उपचार दिया जाए और सैंपल जांच के लिए भेजे जाएं। बैठक में एसीएमओ डॉ. एनके त्यागी, नोडल अधिकारी डॉ. दिनेश चौहान, डॉ. पीयूष अगस्टीन आदि भी उपस्थित रहे।

Share this story