मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश

"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश

हरिद्वार : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को हरिद्वार पहुंचकर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक अखाड़े के संतों और अधिकारियों के साथ समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने मेले के विस्तारित क्षेत्र का भी निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चल रही हैं। नवंबर
  

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को किया समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण, मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चलने के दिए निर्देश

हरिद्वार : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को हरिद्वार पहुंचकर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक अखाड़े के संतों और अधिकारियों के साथ समूचे मेला क्षेत्र का निरीक्षण किया।

उन्होंने मेले के विस्तारित क्षेत्र का भी निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि मेले की तैयारियां नियोजित तरीके से चल रही हैं। नवंबर तक सभी कार्य पूर्ण कर लिए जाएंगे और भव्य व दिव्य कुंभ संपन्न होगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शुक्रवार दोपहर डेढ़ बजे हरिद्वार पहुंचे। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक भी उनके साथ मौजूद थे। भल्ला कॉलेज खेल स्टेडियम में हेलीकाप्टर से उतरने के बाद अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्री महंत हरिगिरि महाराज के नेतृत्व में संतों ने मुलाकात की। इसके बाद सबसे पहले मुख्यमंत्री ने कनखल के बैरागी कैंप में पहुंचकर वहां कुंभ मेले के लिए तैयार किए जा रहे क्षेत्र का निरीक्षण किया।

मुख्यमंत्री ने बैरागी कैंप में बस्तीराम पाठशाला के पास बन रहे पुल और प्रस्तावित पार्किंग स्थल को भी देखा। बैरागी कैंप के पीछे देवपुरा अहतमाल के उस विशालतम भूखंड को भी देखने पहुंचे जहां इस कुंभ में पहली बार मेला क्षेत्र का विस्तार किया जा रहा है। यहां से मुख्यमंत्री चंडीघाट पुल के नीचे पहुंचकर गौरीशंकर द्वीप पहुंचे। यहां संतों के लिए कैंप बनाए जाएंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री अधिकारियों को चेताया कि कार्यों में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

मेला क्षेत्र के विस्तार के पक्ष में है संत

शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक से उन्होंने पिछले कुंभ मेले और आने वाले कुंभ मेले के विस्तार व आवश्यकताओं के बारे में भी चर्चा की। मेलाधिकारी दीपक रावत ने मेला प्रशासन की ओर से की जा रही तैयारियों के बारे में जानकारी दी। पत्रकारों से वार्ता करते हुए सीएम ने कहा कि कुंभ मेला क्षेत्र का विस्तार करते हुए इस बार पहले से दोगुनी से भी ज्यादा जमीन चिह्नित की गई है।

मुख्यमंत्री के साथ निरीक्षण में शामिल अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने कहा कि संत पहले से ही कुंभ मेले का विस्तार बाहरी क्षेत्र में करने के पक्षधर हैं। वर्ष 2010 के कुंभ के दौरान ही प्रशासन को इस बारे में लिखकर दिया गया था। अभी तक विस्तार की गई जमीन नहीं देखी गई थी। अब जमीन देख ली है। प्रशासन सही तरीके से तैयारी कर रहा है। अखाड़ों के संतों से बात कर इस बारे में अंतिम निर्णय कर लिया जाएगा।

निरीक्षण के दौरान ये रहे मौजूद

इस अवसर पर शहरी विकास सचिव शैलेश बगोली, मेलाधिकारी दीपक रावत, मेला आईजी संजय गुंज्याल, शिवालिकनगर नगर पालिका के अध्यक्ष राजीव शर्मा, अपर मेलाधिकारी हरबीर सिंह, डा. ललित नारायण मिश्रा, आदि मौजूद रहे।

Share this story