"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

इंडिया इज़ अस को आईआईटी रुड़की द्वारा नेशनल सोशल समिट 2020 के लिए सीएसआर कंसल्टेंसी प

रुड़की : इंडिया इज़ अस, जो कि 70 से अधिक एनजीओ के साथ काम करने वाला सीएसआर सहायता कार्यक्रम है, को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की द्वारा हाल ही में आयोजित नेशनल सोशल समिट 2020 के लिए सीएसआर कंसल्टेंसी पार्टनर चुना गया। हर साल होने वाला यह सम्मानित कार्यक्रम, समाज के अनेक पक्षों के बीच सामाजिक
  

इंडिया इज़ अस को आईआईटी रुड़की द्वारा नेशनल सोशल समिट 2020 के लिए सीएसआर कंसल्टेंसी पार्टनर चुना गया

रुड़की : इंडिया इज़ अस, जो कि 70 से अधिक एनजीओ के साथ काम करने वाला सीएसआर सहायता कार्यक्रम है, को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की द्वारा हाल ही में आयोजित नेशनल सोशल समिट 2020 के लिए सीएसआर कंसल्टेंसी पार्टनर चुना गया।

हर साल होने वाला यह सम्मानित कार्यक्रम, समाज के अनेक पक्षों के बीच सामाजिक जिम्मेदारी को बढ़ावा देने और सामाजिक क्षेत्र के सामने आने वाली चुनौतियों के समाधान से छात्रों को शुरूआत से ही जोड़ने पर केंद्रित है।

सोशल कॉन्क्लेव में 22,000 से अधिक प्रतिनिधियों की भागीदारी हुई, जिनमें पूरे भारत से एनजीओ के प्रतिनिधियों, सीएसआर पेशेवरों, सीएसआर के लिए जिम्मेदार कार्पोरेट पेशेवरों, दानदाता एजेंसियों, फंड जुटाने वालों, और सामाजिक उद्यमियों ने भाग लिया।

इस संबंध में अर्पित श्रीवास्तव, समिट के हेड, ने अपनी प्रतिक्रिया में बताया कि, “इंडिया इज़ अस ने विकास सेक्टर के सामने आने वाली रूकावटों, तथा इकोसिस्टम में छात्रों के महत्त्व के बारे में सम्मेलन में भाग लेने वालों को जानकारी दी।”

इंडिया इज़ अस ने एनजीओ द्वारा सामना की जाने वाली विविध चुनौतियों के समाधान हेतु परामर्श के साथ सोशल कॉन्क्लेव के एनजीओ का सहयोग किया, जिनमें बेहतर प्रोजेक्ट्स के लिए कार्पोरेट से सीएसआर फंड और दानदाता एजेंसियों से सहायता खोजने की चुनौतियां शामिल हैं।

इंडिया इज़ अस की अध्यक्षता करते हुए देबांगशू गांगुली ने कहा कि, “यह बड़ी खुशी की बात है कि अब समाज के विकास में आईआईटी के लोग भाग ले रहे हैं और समाज में परोपकार करने के बारे में छात्रों को उनके रेगुलर कोर्स में बताया जा रहा है।”

इंडिया इज़ अस की अलिशा विजय ने कहा कि, “आईआईटी रुड़की के इस शानदार कार्यक्रम को देखकर हम काफी खुश हैं, जिसने विकास के सेक्टर और तकनीकी पेशेवरों के लिए आपसी संपर्क और प्रभावशाली ढंग से काम करने के लिए एक प्लेटफार्म बनाया है।”

Share this story