क्योंकि सच जानना आपका हक़ है
क्योंकि सच जानना आपका हक़ है

शहीदे आजम भगत सिंह के 10 ऐसे विचार जो बदल देंगे आपके जीवन और उसे जीने का नजरिया

शहीदे आजम भगत सिंह के 10 ऐसे विचार जो बदल देंगे आपके जीवन और उसे जीने का नजरिया

टीम डिजिटल : 23 मार्च, 1931 के दिन भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान क्रांतिकारी भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और  सुखदेव थापर को फांसी दी गई थी. इन तीनों देशभक्तों ने लाहौर जेल में हंसते-हंसते शहादत को गले लगाया था. भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की याद में ही शहीद दिवस हर साल मनाया जाता है.

शहीदे आजम भगत सिंह के 10 ऐसे विचार जो न सिर्फ जोश से भर देंगे बल्कि जीवन और उसे जीने का नजरिया भी बदलने का काम कर सकते है :

  1.  ‘प्रेमी, पागल और कवि एक ही मिट्टी के बने होते हैं.’
  2. ‘लोगों को कुचलकर, वे विचारों का दम नहीं घोंट सकते.’
  3. ‘अगर बहरों को अपनी बात सुनानी है तो आवाज़ को जोरदार होना होगा. जब हमने बम फेंका तो हमारा उद्देश्य किसी को मारना नहीं था. हमने अंग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था. अंग्रेजों को भारत छोड़ना और उसे आजाद करना चाहिए.’
  4. ‘मैं एक इंसान हूं और जो कुछ भी इंसानियत को प्रभावित करती है उससे मेरा मतलब है.’
  5. ‘जिंदगी अपने दम पर जी जाती है… दूसरों के कंधों पर तो सिर्फ जनाजे उठाए जाते हैं.’
  6. ​’प्यार हमेशा आदमी के चरित्र को ऊपर उठाता है, यह कभी उसे कम नहीं करता है. प्यार दो प्यार लो.’
  7. ‘हमारे लिए समझौते का मतलब कभी आत्मसमर्पण नहीं होता. सिर्फ एक कदम आगे और कुछ आराम, बस इतना ही. ‘
  8. ‘हर वो शख्स जो जो विकास के लिए आवाज बुलंद कर रहा है उसे हरेक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी, उसमे अविश्वास जताना होगा और उसे चुनौती देनी होगी.’
  9. ‘आम तौर पर लोग चीजें जैसी हैं उसी के अभ्यस्त हो जाते हैं. बदलाव के विचार से ही उनकी कंपकंपी छूटने लगती है. इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना से बदलने की दरकार है.’
  10. ‘वे मुझे कत्ल कर सकते हैं, मेरे विचारों को नहीं. वे मेरे शरीर को कुचल सकते हैं लेकिन मेरे जज्बे को नहीं.’

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More