Nitik Gadkari के बयान से टोल टैक्स भड़ने वालों के बीच खुशी का माहौल, जानें इसकी डिटेल

भारत के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने साल 2024 से पहले देश में 26 ग्रीन एक्सप्रेसवे के तैयार हो जाने के बारे में जानकारी दी है।
Nitik Gadkari के बयान से टोल टैक्स भड़ने वालों के बीच खुशी का माहौल, जानें इसकी डिटेल

भारत के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने साल 2024 से पहले देश में 26 ग्रीन एक्सप्रेसवे के तैयार हो जाने के बारे में जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि जल्द ही भारत सड़कों के मामले में अमेरिका की बराबरी कर लेगा। इसके साथ ही टोल टैक्स वसूलने में नए विकल्पों के इस्तेमाल की जानकारी भी मंत्री महोदय ने दी है।

नए तरीके से लिया जाएगा टोल:

नितिन गडकरी के द्वारा टोल वसूलने के लिए दो विकल्पों पर विचार करने की जानकारी दी गई है। पहले विकल्प के तौर पर कारों में ‘जीपीएस’ प्रणाली लगाना है। वहीं दूसरा विकल्प आधुनिक नंबर प्लेट के सम्बंध में है। पिछले कुछ समय से सरकार नए नंबर प्लेट पर जोर दे रही है।

इन दोनों विकल्पों में से किसी एक विकल्प को अगले महीने तक फाइनल कर लिया जा सकता है। मंत्री का कहना है इस नई व्यवस्था से टोल बूथ पर लगने वाले भीड़ से निजात मिलेगी और यातायात सुचारू रूप से चलता रहेगा।

भारत की सड़को को अमेरिका की तर्ज पर किया जा रहा है तैयार:

नितिन गडकरी के द्वारा राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान पूरक सवालों का जवाब देते हुए जानकारी दी है कि 2024 से पहले पहले देश में 26 ग्रीन एक्सप्रेसवे शुरू हो जाएगी। ऐसा होने से भारत अमेरिका के बराबरी में आ जायेगा। इन सड़कों के बनने से कई शहरों के बीच की दूरी बहुत हद तक कम होने की उम्मीद है।

नियम जो अभी चल रहा है:

नितिन गडकरी का कहना है कि अभी के व्यवस्था में लोगों को टोल रोड पर 10 किलोमीटर की दूरी भी तय करने के लिए भी 75 किलोमीटर का शुल्क लग जाता है लेकिन अब आने वाली इस नई व्यवस्था में दूरी के हिसाब से ही शुल्क लिया जाएगा। मतलब जितनी दूरी तय की जाएगी उतनी ही दूरी के पैसे लगेंगे।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के वित्तीय संकट को लेकर उनका कहना है कि अभी कोई ऐसी संकट नहीं है। उनका कहना है कि अभी सब ठीक है और हाल ही में दो बैंकों ने कम दर पर ऋण की पेशकश भी की है।

Share this story

Around The Web