Yoga For Memory: बच्चे का पढ़ाई में नहीं लगता है मन तो आज ही ट्राई करें यह योगासन, ऐसी बढ़ेगी याददाश्त की बादाम को भी छोड़ देंगे पीछे

व्यायाम आपके शरीर की हर मांसपेशी के लिए महत्वपूर्ण है।
Yoga For Memory: बच्चे का पढ़ाई में नहीं लगता है मन तो आज ही ट्राई करें यह योगासन, ऐसी बढ़ेगी याददाश्त की बादाम को भी छोड़ देंगे पीछे

क्या आप जानते हैं कि योग से मस्तिष्क की शक्ति में सुधार हो सकता है? क्या आप जानते हैं कि कई आसन मस्तिष्क को बेहतर बनाने में मदद करते हैं? व्यायाम आपके शरीर की हर मांसपेशी के लिए महत्वपूर्ण है।

बेहतर याददाश्त और एकाग्रता के लिए मस्तिष्क की शक्ति में सुधार करने के कई तरीके हैं, और मस्तिष्क के लिए योग एक ऐसा प्रभावी तरीक़ा है। यह जानने के लिए पढ़ें कि कैसे एकाग्रता और याददाश्त के लिए योग आपके संपूर्ण मस्तिष्क कार्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

मस्तिष्क शक्ति के लिए योग :

योग में ध्यान और श्वास नियंत्रण दो महत्वपूर्ण कारक हैं जो मस्तिष्क को आराम देते हैं। योग आसन कुछ और नहीं बल्कि अलग-अलग मुद्राएं हैं जो शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त के प्रवाह को नियंत्रित करती हैं।

मस्तिष्क की नसों के लिए योग मूड और तनाव के स्तर को नियंत्रित करता है। यह श्वास पैटर्न को प्रभावित करता है, इस प्रकार शरीर को आराम देता है और आपको शांत रखता है।

सिर्फ 20 मिनट का योग मस्तिष्क की शक्ति और शरीर के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने में काफी मदद कर सकता है।
नीचे कुछ आसन दिए गए हैं जो याददाश्त और एकाग्रता में सुधार करने में मदद करते हैं।

पद्मासन (कमल मुद्रा) :

संस्कृत में पद्मासन का अर्थ है कमल का फूल, इसलिए यह आसन लोटस पोज के रूप में लोकप्रिय है। इस आसन में आप पैरों को विपरीत जांघों पर रखकर क्रॉस लेग्ड बैठे होंगे।

यह मस्तिष्क को शांत और आराम देने के अलावा कई लाभों के साथ एक ध्यान मुद्रा है। पद्मासन सुबह के समय सबसे अच्छा काम करता है। खाली पेट पद्मासन करना जरूरी नहीं, इस आसन को करने से कुछ घंटे पहले आप भोजन कर सकते हैं

कदम :

अपनी रीढ़ की हड्डी सीधी और पैरों को सामने की ओर फैलाकर समतल सतह पर बैठें अपने दाहिने पैर को मोड़ें और इसे अपनी बाईं जांघ पर रखें। दाहिने पैर को बायीं जांघ पर रखने के लिए अपने हाथों का प्रयोग करें।

तलवों का मुख ऊपर की ओर होना चाहिए और एड़ी पेट के पास होनी चाहिए इसी तरह अपने बाएं पैर को मोड़कर हाथों की मदद से दाहिनी जांघ पर रखें। तलवों का मुख ऊपर की ओर होना चाहिए और एड़ी पेट के पास होनी चाहिए।

गहरी सांसें लो इस स्थिति में कुछ मिनट के लिए अपने सिर को सीधा और रीढ़ को सीधा रखें दूसरे पैर के साथ भी यही दोहराएं पद्मासन मन को शांत और शांत करने के साथ-साथ पेट, रीढ़, मूत्राशय और श्रोणि को सक्रिय और सक्रिय करता है। यह कूल्हों को खोलकर उन्हें अधिक लचीला भी बनाता है।

वज्रासन (डायमंड पोज) :

वज्र एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है हीरा और इस आसन को लोकप्रिय रूप से डायमंड पोज के रूप में जाना जाता है। एकाग्रता और स्मरण शक्ति को बढ़ाने के लिए योग के इस रूप का अभ्यास न केवल आपके दिमाग को शांत और तनावमुक्त रखता है।

बल्कि आपके शरीर को ‘वज्र’ के समान मजबूत बनाता है यह एकमात्र आसन है जिसे भोजन के बाद किया जा सकता है।योगा मैट पर घुटने टेकें आपके पैर आपके पैरों के अनुरूप होने चाहिए, घुटनों और टखनों को एक साथ लाया जाना चाहिए।

बड़े पैर की उंगलियों को एक दूसरे को छूना चाहिए और तलवों को ऊपर की ओर रखना चाहिए अपने नितंबों को एड़ियों पर और जाँघों को रखते हुए वापस बैठें अपना हाथ जांघों पर रखें और अपने श्रोणि को तब तक रखें जब तक आप सहज महसूस न करें।

अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखते हुए धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें। अपने शरीर को ऊपर की ओर खींचने के लिए अपने सिर का उपयोग करें और अपनी टेलबोन को नीचे की ओर फर्श पर धकेलें।

अपने हाथों को जाँघों पर रखें। अपनी बाहों को आराम दें और अपनी ठुड्डी को फर्श के समानांतर सीधा देखें वज्रासन मस्तिष्क शक्ति के लिए योग का एक रूप है जो अत्यधिक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।

यह एकाग्रता और याददाश्त के लिए योग के सर्वोत्तम आसनों में से एक है। यह दिमाग को शांत और स्थिर रखने में मदद करता है। यह मूत्र संबंधी समस्याओं के लिए एक प्रभावी उपाय होने के अलावा पाचन में सुधार और उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

यह वजन घटाने और मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने में अत्यधिक लाभ देता है।

Share this story

Around The Web