कांग्रेस पार्टी से नाराज़ थे नीतीश कुमार, मल्लिकार्जुन खरगे ने फोन कर की नाराज़गी दूर

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनावों में ज्यादा इंटरेस्ट लेने के लिए कांग्रेस पार्टी की आलोचना की थी. उन्होंने कटाक्ष किया था कि कांग्रेस फिलहाल पांच राज्यों के चुनाव में व्यस्त है. गठबंधन पर अभी बात नहीं हो रही हैं. अब अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने उन्हें फोन किया और गठबंधन के मुद्दे पर बात की.
कांग्रेस पार्टी से नाराज़ थे नीतीश कुमार, मल्लिकार्जुन खरगे ने फोन कर की नाराज़गी दूर  
न्यूज डेस्क, दून हॉराइज़न, नई दिल्ली

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हाल ही में कांग्रेस पार्टी पर विपक्षी गुट ‘INDIA’ पर ध्यान देने के बजाय पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों में ज्यादा इंटरेस्ट दिखाने का आरोप लगाया. ग्रैंड अलायंस के नेताओं ने सीएम के बयान का बचाव किया लेकिन अब खुद कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने उन्हें फोन किया है.

उन्होंने मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया कि एक बार पांच राज्यों का विधानसभा चुनाव हो जाए उसके बाद गठबंधन पर बातचीत होगी.

कांग्रेस अध्यक्ष खरगे ने सीएम नीतीश कुमार से गठबंधन को लेकर बात की. खरगे ने कहा कि राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद गठबंधन पर आगे की बात होगी. नीतीश कुमार ने कटाक्ष करते हुए कहा था, “हम लोग उनको आगे बढ़ाने में लगे हुए थे लेकिन उन्हें अभी विधानसभा के चुनाव में ज्यादा इंटरेस्ट है. चुनाव खत्म होने के बाद ही वे हम लोगों से बात करेंगे.” उनके इस बयान के जदयू नेताओं न बचाव भी किया.

नीतीश कुमार के बयान का जदयू ने किया बचाव

नीतीश कुमार के बयान पर जद (यू) नेता संजय कुमार झा ने इस बात पर जोर किया कि नीतीश कुमार ने इंडिया ब्लॉक बनाने और विभिन्न विपक्षी दलों को एक साथ लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उन्होंने कहा कि अगर नीतीश कुमार को किसी बात की चिंता होगी तो वह बोलेंगे.

संजय झा ने आगे स्पष्ट किया कि नीतीश कुमार का इरादा यह उजागर करना था कि जिन राज्यों में चुनाव हो रहे हैं, उनमें से कुछ में सत्ता में होने के कारण कांग्रेस पार्टी वर्तमान में विधानसभा चुनावों में व्यस्त है. इसलिए चुनाव खत्म होने के बाद गठबंधन को लेकर बातचीत फिर शुरू होने की उम्मीद है.

इंडिया गठबंधन का नेता बनने की कोशिश, नीतीश पर लगे आरोप

नीतीश कुमार ने निराशा जताई थी कि कांग्रेस पार्टी ने गठबंधन के प्रति अन्य दलों की तरह प्रतिबद्धता नहीं दिखाई है, और ऐसा लगता है कि उसका ध्यान मुख्य रूप से विधानसभा चुनावों पर है. बीजेपी ने नीतीश कुमार की टिप्पणी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि नीतीश कुमार शायद चाहते होंगे कि कांग्रेस पार्टी उन्हें इंडिया ब्लॉक का नेता घोषित करे और उनके फैसलों का पालन करे.

हालांकि, बीजेपी विधायक पवन जयसवाल ने तर्क दिया कि कांग्रेस पार्टी ने इस संबंध में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई, जिससे नीतीश कुमार को निराशा हुई. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि नीतीश कुमार राजद नेता लालू प्रसाद की हाल ही में कांग्रेस पार्टी से नजदीकियों से नाखुश हैं.

जीतेगी कांग्रेस तो देश का होगा फायदा

राजद प्रवक्ता मनोज झा ने नीतीश कुमार का समर्थन करते हुए कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री को गठबंधन की चिंता है और वे इससे नाराज नहीं हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि चिंता और उदासी दो अलग भावनाएं हैं और लोगों से नीतीश कुमार की चिंताओं का गलत अर्थ नहीं निकालने का आग्रह किया.

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह ने भी नीतीश कुमार के बयान को सकारात्मक रूप से लेते हुए कहा कि वह बीजेपी को हटाकर कांग्रेस को अग्रणी भूमिका में देखना चाहते हैं. सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि आगामी चुनाव महत्वपूर्ण हैं और कांग्रेस पार्टी की जीत से पूरे भारत को फायदा होगा.

Share this story

Around The Web