Irregular Periods: अगर आपके भी पीरियड नहीं आते है नियमित तो ज़रूर अपनाए यह घरेलू नुस्ख़े

मासिक धर्म या माहवारी एक महिला के जीवन का सबसे आवश्यक लेकिन उपेक्षित हिस्सा है। मासिक धर्म पर चर्चा करना कई महिलाओं कोअसहज कर सकता है।
Irregular Periods: अगर आपके भी पीरियड नहीं आते है नियमित तो ज़रूर अपनाए यह घरेलू नुस्ख़े

मासिक धर्म या माहवारी एक महिला के जीवन का सबसे आवश्यक लेकिन उपेक्षित हिस्सा है। मासिक धर्म पर चर्चा करना कई महिलाओं कोअसहज कर सकता है।

जब पहली बार मासिक धर्म युवा लड़कियों को प्रभावित करता है, तो यह अक्सर भ्रम और चिंता का कारण बनता है। यह शरीर में विभिन्न जैविकपरिवर्तनों के कारण हो सकता है।

पीरियड्स एक जैविक प्रक्रिया है जिसमें योनि से रक्तस्राव होता है। यह एक शेडिंग प्रक्रिया है।

मासिक धर्म यौवन आयु वर्ग से शुरू होता है और एक महिला के जीवन के लगभग 45-50 वर्ष तक रहता है। महिलाओं के लिए मासिक धर्म चक्र28 दिनों का होता है, लेकिन यह हर किसी के लिए बदल जाता है। पेट में ऐंठन, उल्टी, दस्त, पैर में दर्द और कमजोरी के साथ कई महिलाओं केलिए पीरियड्स दर्दनाक हो सकते हैं।

अनियमित पीरियड्स के कारण क्या हैं?

हार्मोनल असंतुलन

गर्भनिरोधक गोलियों का प्रयोग

मोटापा

जीवनशैली में बदलाव – गतिहीन जीवन शैली और अस्वास्थ्यकर भोजन की आदतें

तनाव

थायराइड विकार जैसे दवा, सर्जरी, और रेडियोधर्मी आयोडीन थेरेपी

पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि सिंड्रोम

कुछ घरेलू उपचार हैं जिन्हें आप घर पर ही आजमाकर अपनी साइकिल को वापस सही करने के लिए कर सकते हैं। वे इस प्रकार हैं–

1: अदरक की चाय

अनियमित पीरियड्स समेत कई तरह की बीमारियों और लक्षणों में अदरक फायदेमंद होता है। कच्चे अदरक का नियमित सेवन आपकेपीरियड्स को नियमित करने में मदद कर सकता है। अदरक में जिंजरोल होता है जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है।

यह गर्भाशयकी मांसपेशियों को सिकोड़ने में मदद करता है और हार्मोनल संतुलन प्रदान करता है। एक गिलास गर्म अदरक की चाय में थोड़ा सा नींबू का रसऔर एक चुटकी शहद मिलाकर सुबह या शाम खाली पेट पीने से मेटाबॉलिज्म तेज होता है।

2: कच्चा पपीता

कच्चा पपीता अनियमित पीरियड्स पर अपने असर के लिए जाना जाता है। यह आपके गर्भाशय के संकुचन को बढ़ाता है जो आपके पीरियड्सके दौरान होने में मदद करता है। कच्चे पपीते के रस का कुछ महीनों तक नियमित रूप से सेवन करें लेकिन पीरियड्स के दौरान इसे न पियें।

3: गुड़

गुड़ मीठा होता है और इसमें ढेर सारे औषधीय गुण होते हैं। गुड़ का नियमित सेवन अनियमित पीरियड्स को नियंत्रित करने में मदद कर सकताहै। यह गर्भाशय की ऐंठन को कम करने में भी मदद करता है।

4: हल्दी

हल्दी कुछ भी कर सकती है। यह एक जादुई घरेलू उपाय है जिसे हम किसी भी हालत में इस्तेमाल कर सकते हैं। गुड़ का नियमित सेवनअनियमित पीरियड्स को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। इसमें एंटी–इंफ्लेमेटरी और एंटी–स्पास्मोडिक गुण भी होते हैं जो गर्भाशय की ऐंठनको कम करने में मदद करते हैं।

अगर आप अपने पीरियड्स को नेचुरल तरीके से प्रीपोन करना चाहती हैं, तो हल्दी को गर्म दूध और शहद के साथमिलाकर देखें। मासिक धर्म आने तक इसे रोजाना लें।

5: एलोवेरा

एलोवेरा जूस आपके मासिक धर्म को नियमित करने और अतिरिक्त वजन कम करने का एक उत्कृष्ट उपाय है। यह आपके मेटाबॉलिज्म को भीबढ़ाता है और आपके पेट सिस्टम को स्वस्थ रखता है। एलोवेरा आपके हार्मोनल असंतुलन को ठीक करने और आपके मासिक धर्म कीअनियमितताओं का इलाज करने में मदद करता है। लेकिन पीरियड्स के दौरान कभी भी एलोवेरा का इस्तेमाल न करें। यह गर्भाशय के संकुचनको बढ़ा सकता है।

Share this story

Around The Web