एस्ट्रो टिप्स: जूते-चप्पल पर पड़ता है आपकी किस्मत पर असर, बरतें ये सावधानियां, वरना नाराज हो जाएंगे शनिदेव

फुटवियर हमारे व्यक्तित्व को बहुत प्रभावित करते हैं।
एस्ट्रो टिप्स: जूते-चप्पल पर पड़ता है आपकी किस्मत पर असर, बरतें ये सावधानियां, वरना नाराज हो जाएंगे शनिदेव

फुटवियर हमारे व्यक्तित्व को बहुत प्रभावित करते हैं। हालांकि बहुत कम लोग जानते हैं कि ज्योतिष में भी जूते-चप्पल का बहुत महत्व है। यह व्यक्तित्व और भाग्य से जुड़ा है। फुटवियर को लेकर ज्योतिष और वास्तु शास्त्र के भी कुछ नियम हैं।

इन नियमों का पालन करने से जातक को आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़ता है। वहीं इन नियमों का पालन न करने पर शनिदेव क्रोधित हो जाते हैं। वे लोग पैसे खो देते हैं।

आइए जानते हैं जूते-चप्पल से जुड़े नियम, जिनका पालन करना चाहिए :

# मंगलवार, शनिवार और ग्रहण के दिनों में कभी भी जूते न खरीदें और मास के दिन जूते न खरीदें।

# अगर जूते नए हैं या घर के अंदर इस्तेमाल किए गए हैं, तो उन्हें किचन में नहीं पहनना चाहिए।

# ऐसा करने से मां अन्नपूर्णा क्रोधित हो जाती हैं।

# जूते-चप्पल पहनकर स्टोर रूम में नहीं जाना चाहिए, यह स्थान माता अन्नपूर्णा से जुड़ा है।

# यहां अनाज रखा जाता है ऐसा करने से घर की सुख-सुविधा समाप्त हो जाती है।

# कभी भी किसी और के जूते न पहनें। यहां तक ​​कि घर के किसी भी सदस्य को एक दूसरे के जूते नहीं पहनने चाहिए।

# जूते का संबंध शनि से है। ऐसा करने से शनि देव अशुभ फल देते हैं।

# पुराने जूतों को फेंकने के बजाय दान करें। इसे किसी भी दिन किया जा सकता है।

# ऐसा करने से किस्मत बदल जाती है मान्यता है कि शनिवार के दिन जूते का दान करना लाभकारी माना जाता है।

Share this story

Around The Web