घर में पानी की टंकी, बढ़ा सकती है परेशानी, जानें क्या है सही दिशा

हालांकि, वास्तु शास्त्र के अनुसार, पानी की टंकी वास्तु को बहुत प्रभावित करती है।
घर में  पानी की टंकी, बढ़ा सकती है परेशानी, जानें क्या है सही दिशा

वास्तु शास्त्र टिप्स : लोग अपने घरों की छतों पर पानी की टंकियां लगाते हैं ताकि जरूरत पड़ने पर पानी की कमी न हो। टैंक स्थापित करते समय, आमतौर पर इस पर ध्यान नहीं दिया जाता है कि यह किस दिशा में होना चाहिए।

हालांकि, वास्तु शास्त्र के अनुसार, पानी की टंकी वास्तु को बहुत प्रभावित करती है। यदि टैंक सही दिशा में नहीं है तो व्यक्ति को आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

यह प्रगति में भी बाधा डालता है और स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। इसलिए पानी की टंकी लगाते समय वस्तु का पूरा ध्यान रखना चाहिए वास्तु के अनुसार पानी के लिए उत्तर और पूर्व दिशा सबसे अच्छी होती है।

इस दिशा में घर के अंदर वाटर प्यूरीफायर, घड़ा या अन्य पानी का बर्तन रखना अच्छा होता है, जबकि इस दिशा में पानी की टंकी होने से भौतिक दोष होते हैं। इससे व्यापार में हानि, घर में रहने वालों के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव या दुर्घटना का खतरा बढ़ जाता है।

उत्तर पूर्व दिशा भी पानी की टंकी के लिए अनुकूल नहीं है, जो तनाव को बढ़ाती है और बच्चों को पढ़ने और लिखने में अनिच्छुक बनाती है। दक्षिण-पूर्व दिशा भी पानी की टंकियों को रखने के लिए उपयुक्त नहीं मानी जाती है

इस दिशा को अग्नि की दिशा कहा जाता है आग और पानी का संयोजन गंभीर भौतिक अपराध का कारण बनता है वास्तु विज्ञान के अनुसार दक्षिण-पश्चिम यानी दक्षिण-पश्चिम कोण का बाकी दिशाओं से ऊंचा और भारी होना शुभ होता है।

इस दिशा में छत पर पानी की टंकी रखने से यह हिस्सा बाकी हिस्सों से ऊंचा और भारी हो जाता है। इसलिए प्रगति और समृद्धि के लिए दक्षिण-पश्चिम दिशा में पानी की टंकियां लगानी चाहिए।

इस दिशा में टंकी लगाते समय इस बात का ध्यान रखें कि इस दिशा में दीवार टंकी से ऊंची हो, जिससे आमदनी बढ़ती है और लंबे समय तक घर में आराम मिलता है जीवन में सफलता के लिए कड़ी मेहनत जरूरी है।

सफलता सिर्फ कड़ी मेहनत के बारे में नहीं है, इसके लिए कुछ अतिरिक्त मेहनत भी करनी पड़ती है। मेहनत के साथ-साथ यह भी देखना चाहिए कि काम सही समय पर और सही दिशा में हो।

इन सबके बारे में हमें वास्तु विज्ञान से सटीक जानकारी मिलती है जैसा कि कोई भी छात्र शिक्षक के सामने किसी भी प्रश्न का सही उत्तर दे सकता है, लेकिन जो परीक्षा में सही उत्तर लिखता है वह सफल होता है।

Share this story

Around The Web