उच्च न्यायालय की निगरानी में हो बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक कांड की जांच : एआईएसएफ

उच्च न्यायालय की निगरानी में हो बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक कांड की जांच : एआईएसएफ


बेगूसराय, 10 मई (हि.स.)। बिहार लोक सेवा आयोग के 67वीं परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक होने और फिर परीक्षा रद्द करने के खिलाफ ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) के जिला परिषद इकाई द्वारा मंगलवार को बेगूसराय में आक्रोश मार्च निकालकर विरोध प्रदर्शन किया गया है। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री से बीपीएससी में शामिल हुए सभी छात्रों को पांच-पांच हजार रूपया मुआवजा देने की भी मांग की है। संगठन के जिला सहसचिव विवेक कुमार एवं पिंटू कुमार के नेतृत्व में दर्जनों छात्रों का जत्था सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जी.डी. कॉलेज के मुख्य द्वार पर पहुंचे। जहां कि जिलाध्यक्ष अमरेश कुमार की अध्यक्षता में प्रतिरोध सभा किया गया।

जिलाध्यक्ष ने कहा गरीब और मेहनती छात्रों के वर्षों के मेहनत को राज्य की दोमुंही सरकार नीलाम करा रही है। बीपीएससी राज्य का सबसे प्रतिष्ठित आयोग है, इसके परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक होना बिहार के गौरवशाली इतिहास को कलंकित करने वाला मामला है। एआईएसएफ जिला सचिव राकेश कुमार एवं सहसचिव हसमत बालाजी ने बीपीएससी प्रश्न पत्र लीक कांड की जांच उच्च न्यायालय की निगरानी में होने पर इस मामले में कई सफेदपोश नेताओं के नाम सामने आएंगे, सरकार में बैठे कई विधायक और मंत्रियों के भी नाम सामने आने के आसार हैं।इस कांड में शामिल सभी दोषियों के शीघ्र गिरफ्तारी के लिए हमारा चरणबद्ध आंदोलन जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि बीपीएससी की अगली परीक्षा ऑनलाइन पैटर्न पर लेने की गारंटी करते हुए सरकार को 67वीं बीपीएससी परीक्षा में शामिल होने वाले सभी छात्रों को मुआवजा देना चाहिए। प्रतिरोध मार्च में संगठन के जिला कार्यकारिणी सदस्य वसंत कुमार, नगर अध्यक्ष राजीव स्वराज, जिला परिषद सदस्य विपुल कुमार, प्रिंस कुमार, आलोक कुमार, मो. सिराज, प्रतुल कुमार, सुमन कुमार, रौशन कुमार एवं विकास कुमार समेत अन्य शामिल थे।

हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र

Share this story

Around The Web