महिला कांस्टेबल का यौन उत्पीड़न करने वाले दरोगा ने सीजेएम कोर्ट में किया सरेंडर

महिला कांस्टेबल का यौन उत्पीड़न करने वाले दरोगा ने सीजेएम कोर्ट में किया सरेंडर


बांदा, 10 मई (हि.स.)। यूपी पुलिस के कारनामे से लगातार खाकी दागदार हो रही है। कहीं दरोगा फरियादी के साथ थाने में दुष्कर्म करता है, तो कहीं पूछताछ के नाम पर महिला को थाने में पीट-पीटकर अमानवीय यातनाएं दी जाती है। वहीं खाकी से विभाग की महिलाएं भी सुरक्षित नहीं है। ताजा मामला जनपद बांदा का है। जहां मिशन शक्ति अभियान के एंटी रोमियो से जुड़ी एक महिला कांस्टेबल दरोगा के यौन उत्पीड़न का शिकार हो गई । इस मामले में दरोगा को जेल की हवा खानी पड़ी।

घटना गिरवां थाने से जुड़ी है। इसी थाने में तैनात महिला कांस्टेबल एंटी रोमियो का पाठ पढ़ाने सड़कों पर निकलती थी। वही महिला कांस्टेबल एक दरोगा के उत्पीड़न का शिकार हो गई। बबेरू कोतवाली में तैनात दरोगा शिवा मौर्य ने उसे प्रेम जाल में फंसाकर शादी का झांसा दिया और कई दिन तक यौन उत्पीड़न करता रहा।

बाद में पता चला इसी दरोगा ने बबेरू में किसी अन्य महिला से गुपचुप तरीके से शादी कर ली है। यह जानकारी मिलते ही महिला कांस्टेबल ने दरोगा के खिलाफ 28 फरवरी 2022 को रेप का मुकदमा दर्ज कराया था। लेकिन दरोगा मुकदमा दर्ज होने के बाद गायब हो गया था। लगभग ढाई महीने बाद आरोपी दरोगा ने सोमवार को सीजेएम के कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। जिसे न्यायालय द्वारा जेल भेज दिया गया है।

इस सम्बंध में गिंरवां थाना इंचार्ज मनोज कुमार ने बताया कि इसी थाने में तैनात महिला कांस्टेबल द्वारा दरोगा के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया गया था। जिसकी विवेचना चल रही थी। इसी दौरान न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया है, मामले की विवेचना जारी है।

हिन्दुस्थान समाचार/ अनिल

Share this story

Around The Web