बैंक में झाड़ू-पोछा लगाती थी ये महिला, आज SBI में हैं असिस्टेंट जनरल मैनेजर; जानें Success Story

Woman Who Began As A Sweeper: पुणे की रहने वाली प्रतीक्षा टोंडवलकर (Pratiksha Tondwalkar) सहायक महाप्रबंधक (AGM) नियुक्त होने से पहले एक बैंक स्वीपर थीं.
बैंक में झाड़ू-पोछा लगाती थी ये महिला, आज SBI में हैं असिस्टेंट जनरल मैनेजर; जानें Success Story

Woman Who Began As A Sweeper: पुणे की रहने वाली प्रतीक्षा टोंडवलकर (Pratiksha Tondwalkar) सहायक महाप्रबंधक (AGM) नियुक्त होने से पहले एक बैंक स्वीपर थीं. प्रतीक्षा की कहानी साबित करती है कि दृढ़ता और दृढ़ संकल्प से कोई भी लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है.

1964 में जन्मी प्रतीक्षा के लिए यह कोई एक दिन का चमत्कार नहीं था; उनकी सफलता दशकों के संघर्ष और परिश्रम का फल है. प्रतीक्षा की शादी महज 17 साल की उम्र में हुई थी. हालांकि, उसने अपने पति को खो दिया जब वह सिर्फ 20 साल की थी. उसे काम खोजने में परेशानी हुई क्योंकि उसके पास उचित योग्यता नहीं थी. 

महज 17 साल की उम्र में हुई शादी, 20 में खो दिया पति को 

प्रतीक्षा ने अपने परिवार को सपोर्ट और अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए एसबीआई में एक स्वीपर के रूप में काम करना शुरू किया. इस दौरान उसने अपनी डिग्री हासिल की और अपनी पढ़ाई जारी रखी. अपने समर्पण को साबित करने के बाद उन्हें सफाई कर्मचारी से क्लर्क के रूप में पदोन्नत किया गया.

हालांकि, यह सिलसिला यहीं नहीं थमा. बाद में, उन्हें स्केल 4, फिर सीजीएम और अंततः एजीएम में पदोन्नत किया गया. प्रतीक्षा के दृढ़ संकल्प, समर्पण और सच्चे परिश्रम के कारण, भारतीय स्टेट बैंक (State Bank Of India) ने भी उन्हें उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया. 

मुंबई में नाइट कॉलेज में लिया दाखिला 

अपने पैसों की मदद से प्रतीक्षा ने मुंबई के विक्रोली के नाइट कॉलेज में दाखिला लिया. पढ़ाई के दौरान उन्हें अपने सहकर्मियों का समर्थन मिला और 1995 में उन्होंने मनोविज्ञान में स्नातक की डिग्री हासिल की. इसके बाद उन्हें बैंक क्लर्क के पद पर पदोन्नत किया गया.

प्रतीक्षा के रिटायर होने में दो वर्ष बाकी हैं. भले ही एसबीआई के साथ उनका 37 साल का करियर सफल रहा, लेकिन उन्हें अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है. प्रतीक्षा ने 2021 में एक प्राकृतिक चिकित्सा कार्यक्रम से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और रिटायर होने के बाद दूसरों की मदद करने के लिए अपनी शिक्षा का उपयोग करने की योजना बनाई है. 

कड़ी मेहनत करके प्रतीक्षा ने हासिल किया मुकाम 

जिस देश में बैंकिंग पेशे में पुरुषों का दबदबा है, वहां प्रतीक्षा की कहानी असाधारण है. महिलाएं, जो आमतौर पर सामाजिक दमन का शिकार होती हैं, उन्हें अपने परिवार की देखभाल करते हुए और अपने करियर में प्रगति के लिए कड़ी मेहनत करनी होती है. यही वजह है कि प्रतीक्षा की हर तरफ तारीफ हो रही है. 

Share this story

Around The Web