UPSC Success Stories: हरियाणा की बेटी ने IAS बनने के लिए खुद को बच्चों से कर लिया दूर, दूसरे प्रयास में ही UPSC टॉप कर रच दिया इतिहास

यूपीएससी दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है।
UPSC Success Stories: हरियाणा की बेटी ने IAS बनने के लिए खुद को बच्चों से कर लिया दूर, दूसरे प्रयास में ही UPSC टॉप कर रच दिया इतिहास

Success Story Of IAS Anu Kumari : यूपीएससी दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। भारत के हर परिवार में से कोई न कोई आईएएस अधिकारी बनने का सपना देखता है। हम अक्सर यूपीएससी से जुड़ी कई संघर्ष कहानियों को पढ़ते आ रहे हैं। ऐसी ही एक कहानी है हरियाणा के अनु कुमारी की, जो अपने बच्चे से दूर रहीं ताकि वह आईएएस अधिकारी बन सकें।

उनका बच्चा केवल ढाई साल का था जब हरियाणा की अनु कुमारी ने फैसला किया कि वह यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करेगी। ऐसे में बच्चे से दूर रहना, समाज की बातें सुनना और दिल में इस डर को छुपाना कि अगर आप सफल नहीं हुए तो क्या होगा, यह बहुत मुश्किल था।

लेकिन अनु कुमारी ने इन सब बातों को एक तरफ रख दिया और बस दिन-रात पढ़ाई करती रहीं। उन्हें उनकी तपस्या का फल भी तब मिला जब उनका न केवल यूपीएससी परीक्षा में चयन हुआ बल्कि उन्हें अखिल भारतीय स्तर पर दूसरी रैंक प्राप्त हुई।

इस परिणाम के साथ, अनु की सारी तपस्या सफल हो गई।घर की आर्थिक स्थिति नहीं थी अच्छी हरियाणा के सोनीपत की रहने वाली अनु चार भाई-बहनों में दूसरे नंबर की हैं। उनके पिता एक अस्पताल के एचआर डिपार्टमेंट में थे और मां घर संभालने के साथ-साथ भैंसों को पालती थीं।

दरअसल, पिता की आमदनी ज्यादा नहीं थी, इसलिए मां भैंस पालने से जो पैसा कमाती थी, उससे घर की मदद होती थी। अनु को स्कूल-कॉलेज के समय के दोस्तों ने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने की सलाह दी थी।

हालांकि, अनु पहले अपनी आर्थिक स्थिति को ठीक करने का फैसला लिया; इसलिए पहले जॉब किया और फिर उसे छोड़कर सिविल सर्विस की तैयारी करने का फैसला लिया। इस दौरान अनु के रिश्तेदारों ने भी उन्हें परीक्षा की तैयारी के लिए प्रेरित किया।

अनु हाई पैकेज पर कर रहीं थीं नौकरी

अनु की प्रारंभिक शिक्षा हरियाणा में ही हुई, फिर स्कूल के बाद उन्होंने हिंदू कॉलेज, दिल्ली से भौतिकी में डिग्री ली। वह रोजाना सोनीपत से दिल्ली ट्रेन से अप-डाउन करती थी।

पहली बार अनु ने घर से बाहर कदम रखा, फिर नागपुर चली गईं जहां से उन्होंने एमबीए किया। एमबीए के बाद, अनु के कैंपस प्लेसमेंट के कारण उन्हें मुंबई के एक बैंक में नौकरी मिल गई और उन्होंने वहां दो साल तक काम किया।2012 में अनु की हो गई थी शादी

हरियाणा के सोनीपत की रहने वाली अनु कुमारी ने साल 2017 में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में दूसरा रैंक हासिल किया था। उनकी सफलता की कहानी भी काफी दिलचस्प है।

2012 में अनु मुंबई से गुरुग्राम चली गईं, जहां उन्होंने शादी कर ली यहां आने के बाद अनु की शादी, नौकरी और फिर बच्चा सब कुछ ठीक चल रहा था कि अचानक उसके भाई ने उससे कहा कि तुम नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी करो।

अनु को उसके शिक्षकों ने पहले भी बताया था, इसलिए यह विचार उसके दिमाग के एक कोने में हमेशा दबा रहता था।

ससुराल में अनु की कमाई का था बड़ा योगदान

अनु ने एक उच्च वेतन वाली नौकरी छोड़ दी थी, वह भी तब जब उसकी ससुराल में केवल उसकी आय स्थिर थी क्योंकि उसका पति व्यवसाय में था। दूसरे फैसले में वह ससुराल छोड़कर मायके आ गई क्योंकि वहां पढ़ाई नहीं हो पा रही थी।

पहले वह घर पर ही पढ़ाई करता था, लेकिन उसका ढाई साल का बेटा उससे ज्यादा समय मांगता था। वह पास के पुस्तकालय में पढ़ती थी लेकिन जब वह घर आती थी तो वह उसे नहीं छोड़ता था।

इससे पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ है फिर अनु ने फैसला लिया और अपनी मौसी के घर शिफ्ट हो गई।बच्चे को मां के पास छोड़ मौसी के घर चली गईं अनु जब अनु ने यह फैसला लिया तो उनका बेटा वियान बहुत रोया, मीडिया साक्षात्कार में अनु ने बताया कि वियान जितना रोया था, उससे ज्यादा वह खुद रोई थीं।

अपने बच्चे को मां के पास छोड़कर वह बस दिन-रात मेहनत करती थीं। इसमें उनकी मौसी ने भी काफी मदद की। अनु अपने बेटे से मिलने से कतराती थीं क्योंकि जब वह उससे मिलती थीं तो भावनात्मक रूप से इतनी हिल जाती रहीं कि वह कई दिनों तक पढ़ाई नहीं कर पाती थीं।

इसलिए उन्होंने अपने बेटे वियान को करीब दो साल तक खुद से दूर रखा।

समाज के सुनने पड़े थे ताने

अनु का घर जहां था, वहां गांव जैसा माहौल था।गांव की महिलाओं ने बच्चे को छोड़ना बहुत बुरा माना। वह कई बार अनु के मुंह पर कहती थी कि ऐसी मां क्या है, जो इतने छोटे बच्चे को छोड़ गई। खुद बच्चे से दूर रहकर दुखी रहने वाली अनु इन बातों से और टूट गई।

मेरे मन में यह डर भी था कि अगर उसका चयन नहीं हुआ तो वह क्या करेगी क्योंकि सब कुछ दांव पर लगा था, परिवार, बच्चा, शादी और नौकरी, जो पहले ही खो चुकी थी।

दूसरे प्रयास में रच दिया इतिहास

अनु ने जब पहली बार परीक्षा दी थी तब सिर्फ डेढ़ महीने का समय था उसने दिन-रात एक किया लेकिन उसका चयन नहीं हुआ, हालांकि उसका आधार अच्छी तरह से तैयार था। अनु ने साल 2017 में दूसरे प्रयास में सेल्फ स्टडी के आधार पर यूपीएससी की परीक्षा पास की थी।

अनु कुमारी ने साल 2017 में सिविल सेवा परीक्षा में दूसरा स्थान हासिल किया था। एक मां के तौर पर उनके संघर्ष को कोई नहीं समझ सकता। बता दें, लाल बहादुर शास्त्री नेशनल अकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (LBSNAA) में ट्रेनिंग के बाद अनु कुमारी की IAS पोस्टिंग और कैडर केरल में हैं।

Share this story

Around The Web