Chanakya Niti: महिलाओं की ये चीज़ें देख मर्दो के मुंह में आ जाता है पानी, जानिये इसके पीछे का कारण

चाणक्य ने कहा कि अंहकारी का अंहकार कभी नहीं तोड़ना चाहिए, बल्कि उसके सामने हाथ जोड़कर या उसे तारीफ करके उसे अपने वश में कर सकते हैं।
Chanakya Niti: महिलाओं की ये चीज़ें देख मर्दो के मुंह में आ जाता है पानी, जानिये इसके पीछे का कारण
दून हॉराइज़न, नई दिल्ली

चाणक्य नीति में, महान अर्थशास्त्री आचार्य चाणक्य ने कठिन से कठिन समस्याओं को आसानी से पार करने के तरीके बताए हैं। चाणक्य नीति कहता है कि आपका स्वभाव ही आपको गुलाम बनाता है और दुनिया में कोई भी आपके साथ बिना स्वार्थ के नहीं है।

चाणक्य नीति में वशीकरण का उल्लेख है। चाणक्य खुद भी इसी नीति का पालन करते हुए बहुत बुद्धिमान और चतुराई से किसी से भी अपनी बात मनवा लेते थे। नीति शास्त्र की इन नीतियों को समझने से दुनिया आपके पीछे चलेगी और लोग आपके पीछे चलेंगे।

लुब्धमर्थेन गृह्णीयात् स्तब्धमंजलिकर्मणा॥
मुर्खं छन्दानुवृत्त्या च यथार्थत्वेन पण्डितम्॥

जैसा कि चाणक्य ने कहा, कपटी और लालची किसी भी चीज को पाने के लिए कई हदों को पार कर देती हैं। मीठी-मीठी बातें करके लालची व्यक्ति आपको अपने जाल में फंसाता है और फिर जब काम पूरा हो जाता है तो पीछे मुड़कर भी नहीं देखता।

ऐसे लोगों को पैसे देकर नियंत्रित किया जा सकता है। लेकिन एक बार में सब नहीं देना चाहिए। थोड़ा-थोड़ा देकर लालची व्यक्ति को नियंत्रित कर सकते हैं।

चाणक्य ने कहा कि अंहकारी का अंहकार कभी नहीं तोड़ना चाहिए, बल्कि उसके सामने हाथ जोड़कर या उसे तारीफ करके उसे अपने वश में कर सकते हैं। तारीफ करना अंहकारी को अच्छा लगता है और वह हमेशा लोगों की बात मानती है। अंहकारी का अंहकार तोड़ने की कोशिश करने पर वह आवेश में आ सकता है।

आचार्य चाणक्य ने कहा कि जो व्यक्ति न तो समाज का ज्ञान रखता है और न ही खुद का, वह मूर्ख है। ऐसे लोग अभद्र टिप्पणी करने से भी नहीं हटते। मूर्ख हमेशा असफल होते हैं और एक छोटी सी गलती से बड़ी मुसीबत मोल लेते हैं।

लेकिन मूर्खों को उपदेश देना अच्छा लगता है। तो किसी मूर्ख को नियंत्रित करने के लिए उसे कठोर भाषा में बार-बार शिक्षित करें। एक मूर्ख को जीवन की सही राह दिखाने वाले व्यक्ति से प्यार होता है, लेकिन मूर्ख उपदेश सुनने के बाद भी मूर्ख ही रहेगा।

ज्ञानी व्यक्ति को भी वश में किया जा सकता है, जैसा कि आचार्य चाणक्य ने कहा था। सत्य को चाहने वाले लोग सच सुनते हैं और सच के साथ खड़े रहते हैं। सच बोलना ही ज्ञानी को नियंत्रित कर सकता है। सच बोलने से ज्ञानी व्यक्ति को झूठ भी सच लगेगा। क्योंकि तब तुम्हारे हाथ में होगा।

Share this story