क्योंकि सच जानना आपका हक़ है
क्योंकि सच जानना आपका हक़ है

दिल्ली विधानसभा चुनाव : भाजपा नहीं छोड़ना चाहती अपना परचम लहराने की कोशिश में कोई कसर

दिल्ली विधानसभा चुनाव : भाजपा नहीं छोड़ना चाहती अपना परचम लहराने की कोशिश में कोई कसर

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपना परचम लहराने की कोशिश में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसलिए, विकास के मुद्दे के साथ-साथ सांस्कृतिक गठजोड़ करने में भी जुट गई है।

भाजपा अध्यक्ष जे. पी. नड्डा ने इसी क्रम में मैथिलों की एक सभा में मिथिला की सांस्कृतिक विरासत का बखान करते हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में उनसे भाजपा के पक्ष में वोट करने की अपील की।

दिल्ली में तकरीबन 40 लाख मैथिल मतदाता हैं, जो आठ फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए हो रहे मतदान में अहम भूमिका निभा सकते हैं। यही कारण है कि भाजपा मिथिला समाज के मतदाताओं को मोहने की कोशिश में जुटी है।

भाजपा के कद्दावर नेता और राज्यसभा सदस्य प्रभात झा के निवास पर मंगलवार रात आयोजित मैथिलों की एक सभा में भाजपा के नए अध्यक्ष को मिथिला की आन-बान शान और पहचान का प्रतीक पाग पहनाकर उनका स्वागत किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि पाग पहनाया है तो इसकी रक्षा भी करनी है।

बिहार की राजधानी पटना में बिताए अपने छात्र जीवन के अनुभवों का जिक्र करते हुए नड्डा ने कहा कि मिथिला से उनका भावनात्मक संबंध है। मिथिला के खान-पान और समृद्ध संस्कृति का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, “मिथिला भूमि को मैं नमस्कार करता हूं।”

भाजपा अध्यक्ष ने दिल्ली में निवास करने वाले मैथिली भाषा-भाषी बिहारी प्रवासियों से भाजपा के पक्ष में मतदान करने की अपील की। इस मौके पर उन्होंने दिल्ली में शिक्षा, परिवहन की बदहाली समेत कई मुद्दों को लेकर केजरीवाल सरकार की आलोचना की।

सभा में मैथिल समाज के लोगों की अच्छी-खासी भीड़ जुटी थी। इस मौके पर भाजपा नेता और राज्यसभा सदस्य भूपेंद्र यादव, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और दरभंगा से सांसद गोपाल जी ठाकुर भी मौजूद थे।

मैथिल समाज को मैथिली भाषा में संबोधित करते हुए भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा, “जिस भावना और भाव से हमने आप सबको यहां आमंत्रित किया है, उसे बनाए रखिएगा।”

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More