एक्सक्लूसिव

कांग्रेस में कई दिग्गज हो सकते हैं नाराज और परेशान, मल्लिकार्जुन खड़गे ने नियुक्त किए ये 'चार समन्वयक'

Harpreet । DHNN
21 Nov 2022 6:35 AM GMT
कांग्रेस में कई दिग्गज हो सकते हैं नाराज और परेशान, मल्लिकार्जुन खड़गे ने नियुक्त किए ये चार समन्वयक
x
इमेज को लेकर सतर्क खड़गे ने सोमवार 21 नवंबर से सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे के बीच पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने का कार्यक्रम बनाया है, लेकिन उन्होंने इसे

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पर नव निर्वाचित अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की पकड़ धीरे-धीरे बढ़ रही है। 80 वर्षीय कन्नड़ नेता की छवि अगले साल 2023 में पार्टी के 88वें अध्यक्ष के रूप में मुखर होने की उम्मीद है, जब उनके गृह राज्य कर्नाटक में पार्टी विधानसभा चुनावों में बेहतर प्रदर्शन कर सकेगी।

हालांकि, कर्नाटक में चुनावी जीत डीके शिवकुमार और सिद्धारमैया के साथ-साथ नई कांग्रेस कार्य समिति और नए पार्टी पदाधिकारियों (कोषाध्यक्ष, संगठन के प्रभारी महासचिव) द्वारा पार्टी में 'खड़गे युग' को भी चिह्नित करेगी।

माना जाता है कि खड़गे द्वारा पार्टी पर नियंत्रित स्वायत्तता मई 2024 तक जारी रह सकता है, जब 18वीं लोकसभा के चुनाव होंगे। उस चुनाव के परिणाम और कांग्रेस का प्रदर्शन ही पार्टी में खड़गे के लिए आगे की दशा और दिशा तय करेगा।

मौजूदा कांग्रेस अध्यक्ष का कार्यालय भले ही इंदिरा, राजीव या सोनिया गांधी द्वारा संचालित पार्टी दफ्तर जितना वजनदार न हो, लेकिन गैर-गांधी अध्यक्षों यानी पीवी नरसिम्हा राव और सीताराम केसरी (जिन्हें अपने समकालीन दिग्गजों के साथ वर्चस्व के लिए लंबा संघर्ष करना पड़ा था) की तुलना में खड़गे से अधिक निर्णायक तरीके से कार्य करने की उम्मीद की जा रही है।

इस मामले में, फिलहाल खड़गे का पलड़ा भारी है। लिहाजा, उन्होंने चार नेताओं को अपने समन्वयक के रूप में नियुक्त किया है।

खड़गे के चार समन्वयकों की पसंद में सैयद नासिर हुसैन, गुरप्रीत सिंह सप्पल, प्रणव झा और गौरव पांधी शामिल हैं। नसीर और सप्पल से कांग्रेस संगठन और प्रशासन के मामलों में खड़गे की आंख और कान के रूप में कार्य करने की उम्मीद है जबकि झा और पांधी को क्रमशः मुख्यधारा की मीडिया और सोशल मीडिया पर आज़माया और परखा जा चुका है। माना जा रहा है कि इन चार लोगों की नियुक्ति से कांग्रेस के कई दिग्गजों की नाराजगी और परेशानी बढ़ सकती है।

कौन हैं ये 'चार रत्न':

सैयद नासिर हुसैन

कर्नाटक के बेल्लारी क्षेत्र से ताल्लुक रखने के कारण सैयद नासिर हुसैन खड़गे के करीबी हैं। बेल्लारी बेल्ट में मुस्लिम चेहरा विकसित करने के उद्देश्य से उन्हें खड़गे के कोटे से राज्यसभा सदस्य बनाया गया था। जब खड़गे राज्यसभा में विपक्ष का नेता थे तो उन्हें डिप्टी व्हिप भी बनाया गया था।

सैयद नासिर हुसैन किसान बिलों और पेगासस के मुद्दों पर राज्यसभा में आंदोलन के आक्रामक चेहरे के रूप में सुर्खियों में आए थे। वे राज्यसभा पार्टी व्हिप टीम में खड़गे के आदमी थे, जबकि मुख्य सचेतक के रूप में जयराम रमेश थे।

खड़गे को दरकिनार कर नासिर की सोनिया गांधी तक सीधी पहुंच थी। वह कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में खड़गे के चुनाव प्रबंधक भी थे। कांग्रेस कवर करने वाले दिल्ली मीडिया के लोगों तक भी उनकी अच्छी पहुंच है। वह टीवी पर होने वाले डिबेट में भी जाने-पहचाने चेहरा हैं।

गुरदीप सिंह सप्पल

गुरदीप सप्पल को अनौपचारिक रूप से खड़गे के साथ तब तैनात किया गया था, जब वे राज्यसभा में विपक्ष के नेता बने थे। इससे पहले सप्पल 10 साल तक पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के संयुक्त सचिव रैंक के ओएसडी थे।

उन्होंने तब राज्यसभा का प्रशासन और सभापति कार्यालय में राजनीतिक दलों को भी संभाला था। सप्पल ने RSTV के संस्थापक और सीईओ के रूप में एक अच्छे प्रशासक के रूप में भी ख्याति अर्जित की है।

सप्पल ने 2009 में 15, गुरुद्वारा रकाबगंज रोड स्थित कांग्रेस वॉर रूम में प्रमुखता से काम किया और तब से पार्टी में उनकी अच्छी इमेज है। पिछले दो सालों में उनके प्रोफाइल में लगातार इजाफा हुआ है।

उन्हें पिछले साल टीवी डिबेट्स में उतारा गया और बहुत जल्द वे डेटा और तर्क के साथ मजबूती से बात करने वाली कांग्रेस पार्टी के लिए एक प्रमुख आवाज बन गए। शांतिपूर्ण और बिना बकवास के बहस करने की शैली के कारण उन्हें कभी भी ट्रोल नहीं किया गया।

पिछले दो वर्षों में उन्हें सोनिया गांधी द्वारा कोविड राहत का जिम्मा सौंपा गया था, आंदोलन के आयोजन के लिए भी उन्होंने नियंत्रण कक्ष संभाला है। भारत जोड़ो यात्रा के लिए नागरिक समाज के आयोजन के लिए योगेंद्र यादव के साथ मिलकर काम किया।

वे उदयपुर चिंतन शिविर के प्रमुख सहभागी थे और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता समूह के समन्वयक थे। चिंतन शिविर में वे अकेले गैर पदाधिकारी थे।

प्रणव झा

प्रणव झा को रणदीप सुरजेवाला ने मीडिया प्रबंधन के लिए पार्टी में लाया था। जब रणदीप कांग्रेस में मीडिया विभाग के अध्यक्ष थे, तब प्रणव सचिव बनाए गए थे। जयराम रमेश के पदभार संभालने के बाद से ही उन्हें किनारे कर दिया गया था।

रणदीप सुरजेवाला जो खड़गे के गृह राज्य कर्नाटक के महासचिव भी हैं और उनके साथ अच्छे संबंध रखते हैं, ने कथित तौर पर खड़गे की टीम में प्रणव झा को जगह दिलाने में मदद की है।

गौरव पांधी

खड़गे ने सोशल मीडिया प्रबंधन के लिए गौरव पांधी को टीम में शामिल किया है। वह सोशल मीडिया विभाग के राष्ट्रीय समन्वयक हैं। प्रियांक खड़गे कर्नाटक के सोशल मीडिया प्रमुख हैं और हो सकता है कि उन्होंने ही पांधी को खड़गे के करीब लाया हो।

उनकी नियुक्ति से पार्टी के कुछ दिग्गजों की भौहें तन गई हैं, क्योंकि पंजाब चुनाव में कांग्रेस के अभियान के दौरान उन्हें विवादास्पद माना गया था।

Next Story