"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

प्रधानमंत्री की सलाह, बच्चों के सामने परीक्षा का हौवा खड़ा न करें (लीड 3)

  
नई दिल्ली, 07 अप्रैल (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अभिभावकों और शिक्षकों को सलाह दी कि वे परीक्षा को लेकर बच्चों पर मानसिक दबाव न बनाएं, बल्कि उन्हें हर तरह से प्रोत्साहित करें। बच्चों के सामने परीक्षा का हौवा खड़ा करने से उनका मनोबल प्रभावित होता है।

देश में बोर्ड परीक्षाओं से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को पहले वर्चुअल "परीक्षा पर चर्चा" कार्यक्रम में विद्यार्थियों अभिभावकों और शिक्षकों को संबोधित किया और उन्हें अपने सुझाव दिए। मोदी ने कहा, "बच्चों में कभी भी भय पैदा न करें। ऐसा आसान लगता है, लेकिन इससे निगेटिव मोटिवेशन की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। जैसे ही आपके द्वारा खड़ा किया गया हौवा खत्म होता है तो उसका मोटिवेशन भी समाप्त हो जाता है।" 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि अभिभावकों की यह जिम्मेदारी है कि वह परिवार में तनाव मुक्त वातावरण तैयार करें तथा बच्चों में नकारात्मक मनोवृति की बजाय आशा और विश्वास को बढ़ावा दें। प्रधानमंत्री ने अभिभावकों से कहा कि वे बच्चों के अध्ययन के बारे में पर्याप्त ध्यान नहीं देते, बल्कि उनकी अंक तालिका या रिपोर्ट कार्ड के आधार पर बच्चों का मूल्यांकन करते हैं, जो उचित नहीं है।  

उन्होंने कहा, "बच्चों के माता-पिता के पास समय ही नहीं होता कि वे बच्चों के साथ बिता सकें। ऐसे में वे सिर्फ बच्चों के रिपोर्ट कार्ड तक ही सीमित रह जाते हैं और अपने ही बच्चे के बारे में नहीं जान पाते।"  

संवाद के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा,"अभिभावकों को बच्चों के साथ अधिक समय बिताना चाहिए। उन्हें घर में तनावमुक्त माहौल देना चाहिए। परीक्षा जीवन में महज एक पड़ाव है। यह सब कुछ नहीं है। इसे लेकर डरने की कोई जरूरत नहीं है। परीक्षा के नतीजों से बच्चों की प्रतिभा का आकलन नहीं करना चाहिए।" 

मोदी ने अभिभावकों को सलाह दी कि वे यह उम्मीद न रखें कि बच्चे भी उनकी जैसी ही जिंदगी जियें। मूल्यों को कभी भी बच्चों पर थोपने का प्रयास न करें। मूल्यों को जी कर प्रेरित करने का प्रयास करें।  

उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना मरीज की नई लहर के कारण बोर्ड परीक्षाओं को लेकर विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों में चिंता है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) सहित राज्यों ने बोर्ड की परीक्षाओं की तिथियां पूर्वत ही रखी हैं।  

हिंदुस्थान समाचार/सुशील

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story