"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

मध्‍य प्रदेश में "योग से निरोग" अभियान, मुख्‍यमंत्री ने की समीक्षा

  
मध्‍य प्रदेश में "योग से निरोग" अभियान, मुख्‍यमंत्री ने की समीक्षा
भोपाल, 26 अप्रैल (हि.स.)। योग संक्रमण की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। होम आइसोलेशन में संक्रमितों के लिए योग से निरोग अभियान रामबाण उपचार साबित हो सकता है। जरूरत है कि इसका व्यापक स्तर पर प्रभावी प्रसार हो। प्रत्येक होम आइसोलेट रोगी से प्रशिक्षक दूरभाष पर संपर्क करें। योग की जानकारी देकर, रोगियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करें और उनका मनोबल बढ़ायें। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 'योग से निरोग' अभियान की समीक्षा करते हुए कही हैं। 

मुख्यमंत्री चौहान ने 'योग से निरोग' अभियान संचालन के संबंध में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि शमी अरुण और योग एसोसिएशन की अध्यक्ष पुष्पांजलि से चर्चा कर अभियान की अद्यतन जानकारी प्राप्त की। इन अधिकारियों की ओर से मुख्‍यमंत्री को बताया गया कि प्रदेश में करीब ढाई हजार योग प्रशिक्षकों ने वॉलेंटियर्स के रूप में पंजीयन कराकर प्रशिक्षण का कार्य प्रारंभ कर दिया है। वॉलेंटियर्स पंजीयन का कार्य अभी चल रहा है। प्रदेश में संक्रमित 60 हजार 835 व्यक्तियों में से 19 हजार 573 रोगियों के साथ 1957 योग प्रशिक्षकों ने प्रशिक्षण का कार्य प्रारंभ किया है। 

यह भी बताया गया कि प्रशिक्षक द्वारा निरंतर तीन दिन तक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। तीन दिन बाद प्रशिक्षक दूसरे रोगियों के साथ संपर्क कर प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। यह क्रमिक रूप से चलता रहेगा। प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारी, आयुष अधिकारी, तकनीकी अमला और योग प्रशिक्षकों को तीन दिवस का प्रशिक्षण प्रदान कर प्रशिक्षण से संबंधित विभिन्न विषयों की जानकारी दी गई है। शासकीय योग केन्द्र में कॉल सेंटर की स्थापना भी की गई है। जहाँ से योग प्रशिक्षकों को आवश्यक मार्गदर्शन दिया जा रहा है। जिला कमांड और कॉल सेंटर भी बनाया गया है, जहाँ से रोगियों से चर्चा कर उनका फीडबैक प्राप्त किया जा रहा हैं। स्कूल शिक्षा और आयुष विभाग द्वारा भी मॉनीटिरिंग किया जा रहा है।

इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान को पुष्पांजलि द्वारा यह भी जानकारी दी गई  कि 95 प्रतिशत से अधिक जिलों में 'योग से निरोग' अभियान के अंतर्गत प्रशिक्षण प्रारंभ हो गया है। मुख्‍यमंत्री शिवराज ने इसे सकारात्मक पहल बताया और कहा कि योग प्रशिक्षक पूरे उत्साह एवं सकारात्मक सोच के साथ कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि आगामी दो सप्ताह में 'योग से निरोग' अभियान के सफल परिणाम दिखने लगेंगे। 
मुख्यमंत्री का कहना था कि संगठन के सदस्यों में वॉलेंटियर्स के रूप में कार्य करने का भरपूर उत्साह दिख रहा है और करीब पाँच हजार से ज्यादा संगठन के सदस्य अभियान के साथ शीघ्र ही जुड़ जाएंगे।
हिन्‍दुस्‍थान समाचार/डॉ. मयंक चतुर्वेदी 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story