लाइफ़स्टाइल

ये संकेत बताते हैं कि आपके रिलेशनशिप में नहीं है समानता की जगह, टॉक्सिक होते हैं ऐसे रिश्‍ते

Ganga । DHNN
23 Nov 2022 4:15 AM GMT
ये संकेत बताते हैं कि आपके रिलेशनशिप में नहीं है समानता की जगह, टॉक्सिक होते हैं ऐसे रिश्‍ते
x
रिश्ते में इस तरह की असमानताएं दर्शाती हैं कि भागीदारों के बीच शक्ति का असंतुलन है और एक व्यक्ति दूसरे पर हावी होने की कोशिश कर रहा है।

एक रिश्ते में समानता का मतलब है कि दोनों लोग एक-दूसरे की जरूरतों, इच्छाओं और भावनाओं का सम्मान करते हैं। ऐसा नहीं है कि एक रिश्ते में केवल एक व्यक्ति को अपनी इच्छाओं और रुचियों के बारे में सोचना चाहिए और निर्णय लेना चाहिए।

रिश्ते में इस तरह की असमानताएं दर्शाती हैं कि भागीदारों के बीच शक्ति का असंतुलन है और एक व्यक्ति दूसरे पर हावी होने की कोशिश कर रहा है। ऐसे जहरीले रिश्ते में एक व्यक्ति हमेशा दूसरे पर सत्ता और नियंत्रण बनाए रखने की कोशिश करता है।

जिसकी वजह से रिश्ते में डर, अविश्वास जैसे भाव पैदा होने लगते हैं, जो रिश्ते को जहरीला बना देता है। आइए जानते हैं कि रिश्ते में असमानता की क्या पहचान होती है।

निर्णय लेने का अधिकार

जब किसी रिश्ते में बराबरी या बराबरी का अधिकार न हो तो सबसे पहले इसकी पहचान इस बात से की जा सकती है कि हर फैसला एक ही व्यक्ति लेता है, जबकि एक स्वस्थ रिश्ते में पार्टनर आपसी चर्चा के बाद फैसला लेना पसंद करते हैं।

समझौता नहीं

रिश्ते में दो लोगों के बीच मतभेद होना सामान्य बात है। ऐसे में पार्टनर आपस में चर्चा कर मसला सुलझा लेते हैं या फिर पार्टनर के असहमत होने पर कोई कड़ा फैसला नहीं लेते हैं।

जब रिश्ते में असमानता का अहसास होता है या पार्टनर किसी बात पर असहमत होता है तो वह पार्टनर के साथ किसी भी तरह का समझौता करने से इंकार कर देता है और अपनी मर्जी से चलता है।

वही व्यक्ति हर बार पीड़ित होता है

यह स्वाभाविक है कि एक रिश्ते में केवल एक ही व्यक्ति अपने साथी को वह करने देता है जो वह चाहता है। लेकिन अगर हर बार ऐसा होता है और उसकी भावनाओं का सम्मान नहीं किया जाता है या उसे यह महसूस कराया जाता है कि उसकी इच्छाओं से ज्यादा मेरे मन का पालन करना जरूरी है, तो यह असमानता को दर्शाता है।

शांति

एक स्वस्थ रिश्ते में दोनों लोगों को अपनी भावनाओं और इच्छाओं को खुलकर व्यक्त करने का अधिकार होता है। ऐसे में झगड़ा होना भी एक सामान्य बात है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति अपने साथी पर चुप रहने या उसकी बात को अंतिम निर्णय मानने के लिए दबाव डालता है तो यह रिश्ते में असमानता को दर्शाता है।

Next Story