"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

किन्नरों की बद्दुआ से क्यों डरते हैं लोग, जानिए इससे आपकी जिंदगी पर क्या पड़ता है असर

  

डिजिटल डेस्क : भारत में किन्नर जाति की छवि कोई खास नहीं है. प्राचीन समय से ही इनके बारे में कहा जाता है की यदि किन्नर किसी व्यक्ति को शाप देते है तो उसका विनाश निश्चित ही होता है.

लेकिन यह भी सच है की यदि किन्नर किसी को वरदान देते है तो वह जीवन में बहुत कुछ हासिल कर लेता है. आज हम आपको उन दो शब्दों के बारे में बता रहे है. जिन्हे यदि आप किसी किन्नर के सामने बोलते है तो आपकी किस्मत काफी बदल जायेगी.

हम अक्सर यह देखते है की जब भी किसी व्यक्ति के घर उत्सव होता है तो उनके घर किन्नर चले जाते है. वहां पहुंचकर किन्नर उत्सव के आयोजन कर्ता को उत्सव की बधाई देते है. इसके उपरांत किन्नर को धन और वस्त्र दिए जाते है. जिससे प्रसन्न होकर किन्नर काफी दुआये देते है.

जिस तरह किन्नर की दुआ सभी को लगती है . उसी प्रकार किन्नर की बद्दुआ भी लगती है. ऐसा कहा जाता है की यदि किन्नर किसी व्यक्ति के घर जाए तो उसे निराश नहीं लौटना चाहिए. यदि ऐसा आप करते है तो आपके जीवन की बरबादी निश्चित है .

क्योंकि इन्हे देवताओ से वरदान मिला हुआ है की यदि आप किसी व्यक्ति को दुआ या बद्दुआ देंगे तो उसका असर जरूर होग . यही कारण है की यदि किन्नर किसी के घर चले जाए तो उन्हें काफी सम्मान दिया जाता है.

ऐसा माना जाता है की किन्नर जाति का स्वभाव काफी कोमल होता है . इसलिए यह काफी जल्दी क्रोधित और शांत हो जाते है. यदि एक बार यह क्रोधित हो जाए तो इनके द्वारा दिए गए श्राप को यह खुद भी वापस नहीं ले सकते है. यदि आप इन्हे प्रसन्न रखना चाहते है तो इन्हे दो शब्द के रूप में यह कह दीजिए की “फिर आईयेगा”.

जब आप ऐसा कहते है तो किन्नर खुद को गौरवान्वित महसूस करते है . इस समय इनके दिल से जो भी शब्द निकलते है . उनसे आपका कल्याण ही होता है . यदि आप ऐसा करते है तो आप जल्द ही बहुत बड़े आदमी भी बन सकते है .

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story