"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

बिहार में शराब नहीं पीने की अधिकारियों, कर्मचारियों ने ली शपथ, नीतीश ने प्रचार, प्रसार रथ को किया रवाना

पटना, 26 नवंबर (आईएएनएस)। नशा मुक्ति दिवस के मौके पर शुक्रवार को बिहार में हजारों सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों ने शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब नहीं पीने देने की शपथ ली। इस मौके पर बिहार में शराबबंदी को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसके प्रचार प्रसार के लिए रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
  
बिहार में शराब नहीं पीने की अधिकारियों, कर्मचारियों ने ली शपथ, नीतीश ने प्रचार, प्रसार रथ को किया रवाना
बिहार में शराब नहीं पीने की अधिकारियों, कर्मचारियों ने ली शपथ, नीतीश ने प्रचार, प्रसार रथ को किया रवाना पटना, 26 नवंबर (आईएएनएस)। नशा मुक्ति दिवस के मौके पर शुक्रवार को बिहार में हजारों सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों ने शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब नहीं पीने देने की शपथ ली। इस मौके पर बिहार में शराबबंदी को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसके प्रचार प्रसार के लिए रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

पटना में आयोजित एक समारोह में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों और कर्मचारियों को आजीवन शराब नहीं पीने और दूसरों को भी शराब का सेवन नहीं करने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई ।

उल्लेखनीय है कि बिहार में 2016 से शराब बिक्री और किसी भी तरह के शराब सेवन पर प्रतिबंध है।

पटना के अलावे अन्य जिलों में भी सरकार के कर्मचारी और अधिकारी अपने-अपने सरकारी कार्यालयों में उपस्थित रहे और शराब नहीं पीने की शपथ ली। इस मौके पर पुलिसकर्मियों ने भी थानों में आयोजित कार्यक्रम में शराब नहीं पीने की शपथ ली।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने नशामुक्ति की मुहिम में मद्यनिषेध प्रचार-प्रसार अभियान रथ को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। शपथ ग्रहण कार्यक्रम का आयोजन प्रखंड और पंचायत स्तर पर भी किए गए।

पटना के ज्ञान भवन में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी भी उपस्थिति रहे।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों ने शराब न पीने की शपथ ली थी।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story