"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

संविधान में पलामू के दो महान विभूतियों का अतुलनीय योगदान: उपायुक्त

  
संविधान में पलामू के दो महान विभूतियों का अतुलनीय योगदान: उपायुक्त


मेदिनीनगर, 26 नवम्बर (हि.स.)। भारतीय संविधान में पलामू के दो माहन विभूतियों का अतुलनीय योगदान रहा है। यदुवंश सहाय उर्फ यदु बाबू एवं अमिय कुमार घोष उर्फ गोपा बाबू ने भारत के संविधान के निर्माण में बतौर सदस्य संविधान समिति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह पलामू के लिए गौरव की बात है। संविधान दिवस के अवसर पर इन महान विभूतियों को याद करते हुए काफी हर्ष हो रहा है। यह बातें उपायुक्त शशि रंजन ने कही।

वे शुक्रवार को संविधान दिवस के अवसर पलामू में जिला जनसंपर्क कार्यालय की ओर से सूचना भवन में आयोजित सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर भारतीय प्रेस परिषद के द्वारा वर्ष 2021 के निधार्रित थीम मीडिया से कौन डरता है? एवं भारत के संविधान के निमार्ण में पलामू का योगदान" विषय पर आमंत्रित वक्ताओं ने अपने विचार रखे। उपायुक्त ने कहा कि संविधान दिवस के अवसर पर आज हम लोग प्रस्तावना का पाठ कर रहे हैं। प्रस्तावना संविधान की मूल आत्मा है।

उप विकास आयुक्त ने मेद्या भारद्वाज ने कहा कि हमें मात्र मौलिक अधिकार ही नहीं, बल्कि भारत के संविधान के भाग 4 क के अनुच्छेद 51 क में उल्लिखित नागरिक के मौलिक कतर्व्यों को भी आत्मसात करना चाहिए।

पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा ने कहा कि पलामू के दो विद्वान संविधान सभा के सदस्य थे। संविधान के निमार्ण में उनकी भूमिका पलामू के लिए गौरव एवं सौभाग्य की बात है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि कानून की परिधि में काम करने पर किसी से डरने की आवश्यकता नहीं है। कार्यक्रम को पत्रकार प्रभात मिश्र सुमन, वरिष्ठ पत्रकार रवीन्द्र त्रिपाठी, गोकुल बसंत और देवब्रत ने भी संबोधित किया। कायर्क्रम का संचालन सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक आनंद ने किया।

हिन्दुस्थान समाचार/संजय

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story