"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

छात्राओं को भारतीय संविधान की महत्ता पर दी गई जानकारी

  
छात्राओं को भारतीय संविधान की महत्ता पर दी गई जानकारी


मेदिनीनगर, 26 नवम्बर (हि.स.)। भारतीय संविधान में मौलिक अधिकार के बारे में हम सभी को अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए। यह बात लिटरेसी क्लब के पैनल लॉयर संजय कुमार पांडेय-1 ने कही। शुक्रवार को संविधान दिवस के अवसर पर आयोजित राजकीय बालिका प्लस दो उच्च विद्यालय में लीगल लिटरेसी क्लब के छात्रओं को भारतीय संविधान की महत्ता पर विस्तृत बातों को रखा। थे। मौके पर उपस्थित सभी विद्यर्थियों को को संविधान के प्रस्तावना का शपथ दिलाई गई। मूल कर्तब्य, मूल अधिकार, मौलिक कर्तब्य और लोकतंत्र के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।

उन्होंने चर्चा को आगे बढ़ाते हुए कहा की किसी व्यक्ति के जीवन के लिए अनिवार्य और मौलिक होने के कारण उस देश के संविधान द्वारा नागरिकों को मौलिक अधिकार प्रदान किए जाते हैं। इसमें सामान्यतः राज्य भी हस्तक्षेप नहीं कर सकता है उन्हें हम मौलिक अधिकार कहते हैं। संविधान सभा द्वारा मौलिक अधिकारों की सुरक्षा के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैं। राज्य का कोई भी अंग उनके विरुद्ध कार्य नहीं कर सकता। परंतु यह निरंकुश आसीमित नहीं हैं सरकार इनके प्रयोग पर औचित्यपूर्ण प्रतिबंध लगा सकती है। संविधान में वर्णित मौलिक अधिकार के रूप में 6 मूल अधिकार प्रदान किए गए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/संजय

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story