"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

बंदी उरांव के अंतिम दर्शन के लिए उमडा जनसैलाब

  

गुमला, 07 अप्रैल ( हि.स.)। 
छोटानागपुर-संथाल परगना क्षेत्रीय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष, एसटी आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष, एकीकृत बिहार में योजना मंत्री रहे कांग्रेसी नेता 90 वर्षीय बंदी उरांव का बुधवार को उनके पैतृक गांव भरनो प्रखंड अंतर्गत दतिया बसाईर टोली में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।  मौके पर सैकड़ों लोगों ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी। 
झारखंड के महान आदिवासी नेता स्व. कार्तिक उरांव की प्रेरणा से सरकारी नौकरी छोड़ कर राजनीति में आये स्व.बंदी उरांव सिसई से चार बार विधायक रहें। जैसे ही उनका पार्थिव शरीर दतिया बसाईर टोली गांव पहुंचा। उनके अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। उन्होंने जहां ग्राम सभा की अवधारणा का सृजन किया। वहीं दूसरी ओर पेसा कानून को लेकर लंबा संघर्ष भी किया था। भूरिया कमेटी के सदस्य के रूप में स्व.उरांव ब्रह्मदेव शर्मा के साथ मिल कर पूरे राज्य का सघन भ्रमण करते हुए आदिवासी समाज के हितों व अधिकार के लिए लोगों को जागरूक करने का काम किया। अंतिम संस्कार में उनके पुत्र डा.अरूण उरांव, पुत्रवधु गीताश्री उरांव,सिसई विधायक जिग्गा मुंडा, एसडीओ रवि आनंद, पूर्व विधायक देव कुमार धान,बसंत उरांव, भरनो से आये सैकड़ों लोगों ने अपने प्रिय नेता का अंतिम दर्शन करते हुए पुष्पार्चण व मिट्टी देकर अंतिम विदाई दी। आदिवासी रीति रिवाज से तीन बजकर 30 मिनट पर कब्र स्थल पर लाया गया, जहां और कब्र स्थल पर ही प्रार्थना कर उनकी जीवन और उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए उनकी जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही गई। एक मिनट का मौन धारण कर दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना किया गया। चार बजकर 15 मिनट पर उन्हें सुपुर्दे खाख कर दिया गया।  स्व. बंदी उराँव की मौत पर उनके पुत्र अरुण उराँव ने कहा कि वे  कांग्रेस के एक महान नेता थे । उन्होंने लोगों की सेवा के लिए सरकारी नौकरी का परित्याग कर 1980 में राजनीतिक में कदम रखा और काफी उपलब्धियां हासिल की । 
उन्हें राजनीति में लाने में सबसे बड़ा श्रेय स्व कार्तिक बाबू को जाता है। उन्हीं के मार्ग दर्शन पर वे सिसई विधान सभा से चार बार विधयक बने और एकीकृत बिहार में मंत्री भी बने। उन्हें उनके स्मरणीय कार्यों को हमेशा याद रखा जाएगा यह राज्य और आदिवासी समाज के लिए अपूरणीय क्षति है। जिसकी भरपाई करना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है।


हिन्दुस्थान समाचार/ कृष्ण

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story