"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

डल झील के संरक्षण व संवर्धन के लिए कार्ययोजना तैयार करने के उपायुक्त ने निर्देश

  
डल झील के संरक्षण व संवर्धन के लिए कार्ययोजना तैयार करने के उपायुक्त ने निर्देश


धर्मशाला, 26 नवम्बर (हि.स.)। धर्मशाला के नड्डी स्थित धार्मिक आस्था और पयर्टन से जुड़ी डल झील के संरक्षण तथा सौंदर्यीकरण के लिए कारगर कार्ययोजना तैयार की जाएगी इस के लिए कार्यकारी समिति भी गठित करने निर्देश दिए गए हैं। शुक्रवार को उपायुक्त कांगड़ा डा. निपुण जिंदल ने डल झील के सरंक्षण को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि डल झील के संरक्षण तथा संवर्धन के लिए नगर निगम, वन विभाग, जल शक्ति विभाग, पर्यटन विभाग, मत्स्य विभाग, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तथा प्रशासन की तरफ तहसीलदार डल झील संरक्षण तथा संवर्धन समिति में शामिल रहेंगे।

उन्होंने कहा कि डल झील में सिल्ट हटाने तथा पानी के रिसाव इत्यादि के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जाएगी इस के लिए आईआईटी रूड़की, आईआईटी मंडी में भी संपर्क किया जा रहा है ताकि विशेषज्ञों की रिपोर्ट के आधार पर ही डल झील के सौंदर्यीकरण और संवर्धन का प्लान तैयार किया जा सके। उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि सभी संबंधित विभाग आपसी समन्वय के साथ डल झील के संरक्षण के लिए उचित कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि नगर निगम के माध्यम से अमृत योजना के तहत डल झील को विकसित करने के लिए भी पहल की जाएगी इस बाबत नगर निगम के अधिकारियों से भी प्लान तैयार करने के लिए चर्चा की गई है।

उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि डल झील एक हेक्टेयर क्षेत्र में फैली हुई है तथा श्रद्वालुओं के साथ साथ पर्यटकों के लिए भी यह आकर्षण का केंद्र है। हर वर्ष हजारों पर्यटक डल झील को देखने के लिए आते हैं। उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि हर वर्ष अक्तूबर-नवंबर के आसपास डल झील में पानी कम हो जाता है इसी समस्या के समाधान के लिए विशेषज्ञों से मदद मांगी गई है ताकि वर्ष भर डल झील में पर्याप्त पानी उपलब्ध रहे इसका विशेष ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि डल झील के सौंदर्यीकरण के लिए भी उचित कदम उठाए जाएंगे।

गौरतलब है कि बीते दिनों डल झील में पानी के रिासव के कारण कई मछलियां मर गई थीं तथा झील सूखने के कगार पर पंहुच गई है। इस घटना के बाद प्रशासन ने अब इसका समाधान निकालने के लिए कार्ययोजना तैयार करने की पहल की है।

हिन्दुस्थान समाचार/सतेंद्र/सुनील

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story