"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

भिवानी: आंदोलन का एक साल होने पर किसानों ने फिर ली अंगड़ाई

  
भिवानी: आंदोलन का एक साल होने पर किसानों ने फिर ली अंगड़ाई


भिवानी, 26 नवंबर (हि.स.)। किसान आंदोलन का एक साल पूरा होने पर किसानों ने फिर अंगड़ाई ली और सीधे टिकरी बॉर्डर के लिए रवाना हो गए। इस दौरान पुरूषों की बजाय महिला किसानों में खासा जोश देखने को मिला। जिन्होंने कहा कि हमें कमेटी नहीं, एमएसपी की गारंटी चाहिए। भले ही पीएम मोदी ने कृषि कानून वापस लेने की घोषणा कर दी है, पर किसान आंदोलन खत्म करने की बजाय तेज करने के मुढ़ में हैं।

इसकी बानगी आंदोलन के एक साल पूरा होने पर दिख रही है। जब जगह से किसान एक बार फिर दिल्ली बॉर्डर के लिए पहले से ज्यादा संख्या में रवाना हुए। खास बात ये है कि महिला किसानों में जो जोश है वो देखने लायक है। कुछ महिला तो हरियाणवी वेशभूषा में सज-धजकर नारेबाजी के साथ रवाना हुई। महिला किसान नेता सुशीला घणघस ने कहा कि सरकार ये ना सोचे किसान घर वापस कर रहे हैं, बल्कि किसान तो गूंद लेकर बॉर्डर पर वापसी कर रही हैं। सुशीला घणघस ने कहा कि उन्हें कमेटी नहीं, एमएसपी की गारंटी चाहिए। वही ओमप्रकाश व कमल प्रधान ने कहा कि सरकार ने एक कदम बढ़ाया है। बाकी मुद्दों के समाधान के लिए एक कदम और बढ़ाए। उन्होंने कहा कि अभी एमएसपी की गारंटी, मुकदमे वापिसी, मृतक किसानों के परिजनों की आर्थिक मदद, अजय मिश्रा की गिरफ्तारी, पराली व बिजली विधेयक को लेकर भी सरकार बातचीत से समाधान निकाले।

पहले समय के साथ और फिर पीएम मोदी द्वारा कानून वापस लेने के बाद माना जा रहा था कि किसान आंदोलन खत्म होगा, पर पीएम मोदी की घोषणा को किसानों ने अपनी जीत मानते हुए पहले से भी ज़्यादा जोश के साथ आंदोलन तेज कर दिया है। अब देखना होगा कि बाकी मुद्दों के समाधान को लेकर कमेटी कब बनती है और क्या कमेटी के फैसले आंदोलन ख़त्म करवा पाएँगे।

हिन्दुस्थान समाचार/इन्द्रवेश/संजीव

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story