मुरैनाः आनर किलिंग के मामले में पिता-चाचा को आजीवन कारावास

मुरैनाः आनर किलिंग के मामले में पिता-चाचा को आजीवन कारावास


- प्रेम प्रसंग के चलते बेटी की हत्या करने के बाद चम्बल नदी में फेंक दिया था शव

मुरैना, 15 जनवरी (हि.स.)। जिले के एक आनर किलिंग के सनसनीखेज मामले में अंबाह के न्यायालय ने शनिवार को बेटी की हत्या के दोषी पिता और चाचा को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही आरोपितों पर अर्थदण्ड भी लगाया है। बताया गया है कि दोषियों ने प्रेम प्रसंग के चलते युवती की हत्या कर शव चम्बल नदी में फेंद दिया था।

मामले में शासन की ओर से पैरवी करने वाले विशेष लोक अभियोजक गिरजेश खत्री ने बताया कि 2 जून 2019 को चंबल नदी के रायपुर घाट पर एक युवती का शव मिला था, जिसकी शिनाख्त अंबाह निवासी ओमकार सिंह तोमर की 19 साल की बेटी कौशकी उर्फ प्रिया तोमर के रूप में हुई थी। ओंकार ने अपनी बेटी के लापता तक होने की जानकारी भी पुलिस को नहीं दी, इसलिए पहला शक स्वजनों पर ही गया। पता चला कि युवती मुरैना में रहकर पढ़ाई करती थी। इसी दौरान पड़ोस में रहने वाले युवक से उसका प्रेम प्रसंग शुरू हो गया। परिजनों को यह बात पता चली तो उन्होंने पढ़ाई छुड़वा दी। इसके बाद युवती की शादी के लिए रिश्ता तय कर दिया, लेकिन युवती अपने प्रेमी से ही शादी के लिए अड़ी थी। इसी बात पर 45 वर्षीय ओमकार सिंह पुत्र मलखान सिंह तोमर ने अपनी बेटी प्रिया तोमर की 36 वर्षीय अपने छोटे भाई शिवकांत उर्फ शिवकांत के साथ मिलकर गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद सिर को काटकर बोरी में बंद किया और रात के अंधेरे में ट्रैक्टर में रखकर सिर व धड़ को चंबल नदी में फेंक दिया, ताकि मृतका की पहचान न हो सके।

शनिवार को मामले की सुनवाई के बाद अम्बाह न्यायालय के अपर सत्र न्यायाधीश सुरेन्द्र सिंह ने शनिवार को फैसला सुनाया। आरोपित पिता ओंकार सिंह तोमर व चाचा शिवकांत सिंह तोमर को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास और आठ-आठ हजार रुपये अर्थदण्ड की सजा से दंडित किया।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

Share this story