"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

भारतीय संविधान दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का धर्मग्रंथ : कुलपति

  
भारतीय संविधान दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का धर्मग्रंथ : कुलपति


एनएसएस


रांची, 26 नवम्बर (हि.स.)। रांची विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) इकाई के तत्वावधान में शुक्रवार को विश्वविद्यालय भूगर्भ शास्त्र विभाग सभागार में "भारतीय संविधान दिवस" पर कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता विभागाध्यक्ष डॉ विजय कुमार सिंह ने की और मुख्य अतिथि के रूप में रांची विश्वविद्यालय की कुलपति कामिनी कुमार उपस्थित थीं।

कुलपति कामिनी कुमार ने कहा कि भारतीय संविधान दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का धर्मग्रंथ है। भारत के संविधान को देश के आजादी के आंदोलन के दौरान जागृत हुई, राजनीतिक चेतना का परिणाम कहा जाता है। इसी का परिणाम है कि आजादी के 74 वर्षों के बाद भी भारतीय संविधान अक्षुण्ण, जीवंत और सतत क्रियाशील बना हुआ है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान है जो तत्वों और मूल भावना के नजरिए से अद्वितीय है। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित छात्र - छात्राओं से भारतीय संविधान को पढ़ने एवं जानकारी प्राप्त करने का आह्वान किया।

मुख्य वक्ता विश्वविद्यालय राजनीति विज्ञान विभाग की अध्यक्ष डॉ मिताली रॉय ने कहा कि भारतीय संविधान में मूल रूप से कुल 395 अनुच्छेद (22 भागों में विभाजित) और आठ अनुसूचियां थी, लेकिन विभिन्न संशोधनों के परिणामस्वरूप वर्तमान में इसमें कुल 448 अनुच्छेद (25 भागों में विभाजित) और 12 अनुसूचियां है। उन्होंने कहा कि संविधान के तीसरे भाग में छह मौलिक अधिकारों का वर्णन किया गया है एवं इन मौलिक अधिकारों का मुख्य उद्देश्य राजनीतिक लोकतंत्र की भावना को प्रोत्साहन देना है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान को तैयार करने में कुल दो वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे थे एवं हस्तलिखित है।

कुलपति ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना का शपथ सभी को कराया। विश्वविद्यालय राजनीति विज्ञान की प्राध्यापिका डॉ टुल्लू सरकार ने संविधान की विशेषताओं पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए सभी को संविधान में आस्था व्यक्त करते हुए लोकतंत्र की गरिमा को अक्षुण्ण रखने का आह्वान किया।

हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story