"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

देहरादून से भारतीय संविधान का गहरा नाता, छपी थी पहली कॉपी

  
देहरादून से भारतीय संविधान का गहरा नाता, छपी थी पहली कॉपी


देहरादून, 26 नवंबर (हि.स.)। भारत का संविधान प्रकाशित करने में देहरादून स्थित सर्वे ऑफ इंडिया का अहम योगदान है। इस संविधान के प्रकाशन की जिम्मेदारी सर्वे ऑफ इंडिया को दी गई थी जहां आज भी संविधान की पहली प्रति सुरक्षित है।

26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा संविधान को अपनाया गया था और 26 जनवरी 1950 को इसे लागू कर दिया गया था। उस समय संविधान सभा ने संविधान छापने की जिम्मेदारी सर्वे आफ इंडिया को सौंपी थी।संविधान की पहली प्रति लिपि प्रेम बिहारी रायजादा के हाथों से लिखी गई थी। इसमें उन्होंने चारों तरफ डिजाइन भी बनाए थे।

इसके अलावा सर्वे ऑफ इंडिया में आज भी वो मशीन सुरक्षित है जिसने सबसे पहले संविधान का प्रकाशन किया था। यह मशीन आज धरोहर के रूप में है जिसे सर्वे आफ इंडिया ने संजो कर रखा है।

इस संदर्भ में जानकारी देते हुए एनपीजी (नॉर्थ प्रिंटिंग ग्रुप) और निदेशक मानचित्र, अभिलेख एवं प्रसारण केंद्र कर्नल राकेश सिंह ने बताया कि हमारे संविधान की पहली छपी प्रति आज भी सर्वे ऑफ इंडिया के पास है, जिसे सुरक्षित रखा जा रहा है। इसके अलावा पहली हाथ से लिखित मूल प्रति राष्ट्रीय संग्रहालय में सुरक्षित है।

हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story