"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon
doon Horizon

उज्जैन: गैस प्लांट टैंक में गिरने से दो लोगों की मौत, मुख्यमंत्री ने जताया दुख

  
उज्जैन: गैस प्लांट टैंक में गिरने से दो लोगों की मौत, मुख्यमंत्री ने जताया दुख


Two people died after falling in gas plant tank


उज्जैन, 14 अक्टूबर (हि.स.)। जिले के आगर रोड स्थित ग्राम घटिया के समीप बने इंडियन ऑयल के एलपीजी बॉटलिंग गैस प्लांट में गुरुवार देर शाम को सफाई कर रहे दो लोगों की टैंक में गिरने से मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही एडीएम, एसडीओपी और थाना प्रभारी गैस प्लांट पहुंचे और कार्रवाई शुरू की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हादसे पर दुख व्यक्त किया है।

जानकारी के मुताबिक, घट्टिया स्थित गैस प्लांट में गुरुवार शाम को गैस टैंक को पानी से साफ करने के दौरान एक कर्मचारी फिसलकर उसमें गिर गया, उसे बचाने के चक्कर में दूसरा कर्मचारी भी टैंक में गिर गया। देर शाम तक दोनों कर्मचारियों को टैंक से निकाला नहीं जा सका था। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और दोनों कर्मचारियों को निकालने का काम किया जा रहा है। ग्रामीण व दोनों कर्मचारियों के स्वजन प्लांट पर एकत्र हो गए। पुलिस ने टैंक में गिरने वाले मजदूरों के नाम लाखन सिंह (30) पुत्र भेरुसिंह निवासी ग्राम लाम्बीखेड़ी तथा राजेंद्रसिंह (27) पुत्र शेरसिंह निवासी ग्राम जलवा घट्टिया बताये गए हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि उज्जैन जिले के घट्टिया तहसील के इंडस्ट्रियल प्लांट में हादसे में दो लोगों की मृत्यु की खबर दुखद है। राहत और बचाव कार्य जारी है। गुना व दाहोद से विशेष टीमें उज्जैन के लिए रवाना हो गई हैं। ईश्वर से प्रार्थना है कि शेष लोग सुरक्षित हों। दिवंगत आत्मा को ईश्वर शांति प्रदान करें। उन्होंने आगे कहा कि उज्जैन में हुए हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य पर सतत नजर है। स्थानीय प्रशासन का अमला मौके पर मुस्तैदी से मौजूद है। भोपाल से एनडीआरएफ और नागदा से तकनीकी विशेषज्ञों की बचाव टीमें रवाना हो चुकी हैं।

वहीं, स्थानीय प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक, घटिया तहसील स्थित आई.ओ.सी.एल. बॉटलिंग प्लांट में डीकैन्टिंग के दौरान गिरने से दो नागरिकों की मृत्यु हुई है। उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि गैल और आईओसी के संयुक्त दल द्वारा शवों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस कार्य में अतिरिक्त विशेषज्ञ सहयोग के लिए आईओसीएल की टीम को गोधरा तथा गुना से घटनास्थल के लिये रवाना किया गया है। टीम के द्वारा प्रातः काल शवों को निकालने का प्रयास किया जायेगा। वल्लभ भवन, भोपाल स्थित सिचुएशन रूम से पूरी घटना की सतत निगरानी की जा रही है। ज्वलनशील गैस को सुरक्षित तरीके से हटाया जाकर क्षेत्र को सुरक्षित किया जा रहा है। एनडीआरएफ की टीम भोपाल से मौके के लिए रवाना की जा चुकी है।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story