"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×
doon Horizon

सदर विधायक और आईजी की कोशिश नाकाम, अनशन पर डटे हैं अमन त्रिपाठी के माता पिता

  
सदर विधायक और आईजी की कोशिश नाकाम, अनशन पर डटे हैं अमन त्रिपाठी के माता पिता


बांदा, 26 नवम्बर (हि.स.)। जनपद के बहुचर्चित अमन त्रिपाठी हत्याकांड में हमीरपुर क्राइम ब्रांच ने अमन के 08 नाबालिग साथियों को गिरफ्तार कर लिया है। इसके बाद भी अमन के पिता संजय त्रिपाठी और मां पूर्व सभासद मधु त्रिपाठी अनशन पर डटे हैं। इन्हें मनाने के लिए कल आईजी के सत्यनारायण और सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने जूस पिलाकर अनशन खत्म कराने का प्रयास किया लेकिन कोशिश नाकाम रही।

बताते चलें कि, संजय त्रिपाठी अपने पुत्र अमन हत्याकांड में शामिल आरोपियों की गिरफ्तारी और घटना की सीबीआई से जांच कराने की मांग को लेकर अशोक स्तंभ के नीचे पिछले 04 दिनों से अनशन कर रहे हैं। गुरुवार को पुलिस ने हत्यारोपी आठ नाबालिगों को गिरफ्तार करने का दावा करते हुए अनशन में बैठे माता-पिता से अनशन खत्म करने की अपील की थी। लेकिन उन्होंने अनशन खत्म नहीं किया। तब देर शाम सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी और आईजी चित्रकूट धाम परिक्षेत्र के सत्यनारायण ने अनशन स्थल पहुंचकर अनशनकारी माता-पिता को जूस पिलाकर अनशन खत्म कराने का प्रयास किया।

उनके अनशन स्थल से जाते ही संजय त्रिपाठी और मां मधु त्रिपाठी ने स्पष्ट रूप से कहा कि अभी हमारा अनशन खत्म नहीं हुआ। हमारी मांग है कि घटना की सीबीआई से जांच कराई जाए, अगर इस मामले में आईजी द्वारा लिखित आश्वासन दिया जाता है तो हम अनशन खत्म कर देंगे। साथ ही यह भी कहा कि पुलिस ने हत्या के मुकदमे को गैर इरादतन हत्या का केस बनाकर अभी भी आरोपियों के को बचाने का प्रयास किया है। हम चाहते हैं कि आरोपियों को आजीवन कारावास या फांसी की सजा हो।

शहर के बंगाली पुरा निवासी भाजपा नेता संजय त्रिपाठी के 14 वर्षीय पुत्र अमन का शव कनवारा गांव के पास केन नदी में 11 अक्टूबर को मिला था। वह दोस्तों के साथ बर्थडे पार्टी में शामिल होने की बात कहकर घर से निकला था। 12 अक्टूबर को पिता संजय ने शहर कोतवाली में हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, हालांकि पुलिस इसे डूब कर मरने की घटना बताती रही। तब अमन के माता-पिता की मांग पर पुलिस महानिरीक्षक ने हमीरपुर क्राइम ब्रांच को जांच सौंपी थी। इस बीच जांच में पोस्टमार्टम रिपोर्ट में तमाम गड़बड़ी पाई गई थी। तब पिता ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट व मेडिको लीगल सेल की जांच में हेराफेरी करने का आरोप लगाया था। उन्होने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर 23 नवम्बर को अशोक लाट पर बेटे की अस्थियां रखकर अनशन शुरू कर दिया था।

हिन्दुस्थान समाचार/अनिल

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story