"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

चमोली : लकड़ी का स्ट्रेचर बनाकर महिला को ले जा रहे थे अस्पताल, रास्ते में दिया बच्चे को जन्म

  

चमोली : उत्तराखंड के जोशीमठ में स्वास्थ्य और सड़क सुविधा न होने से तिरोसी गांव की एक महिला ने रास्ते में ही बच्चे को जन्म दे दिया। प्रसव पीड़ा होने पर ग्रामीणों ने लकड़ी का स्ट्रेचर बनाया और महिला को उसके सहारे अस्पताल ले जा रहे थे, लेकिन महिला ने रास्ते में ही बच्चे को जन्म दे दिया। जच्चा-बच्चा का स्वास्थ्य सामान्य होने पर परिजन उन्हें घर ले गए।

तिरोसी गांव सड़क से दस किलोमीटर दूर है। शनिवार शाम को गांव की बिंदु देवी को प्रसव पीड़ा शुरू हुई। गांव में कोई अस्पताल न होने पर ग्रामीणों ने लकड़ी का स्ट्रेचर बनाया और उस पर लिटाकर पैदल ही महिला को कंधे पर सीएचसी जोशीमठ ले जाने लगे।

साथ में अन्य महिलाएं भी थीं। सात किमी दूरी तय करने के बाद अरोसी पुल के पास बिंदु ने बच्चे को जन्म दे दिया। ग्रामीण सौरभ राणा ने कहा कि जच्चा व बच्चा की तबियत सामान्य होने पर ग्रामीण उन्हें अस्पताल पहुंचाने के बजाय घर ले गए।

तिरोसी गांव में आशा कार्यकर्ता के साथ ही एएनएम को भेजा गया है। जच्चा-बच्चा स्वस्थ हैं। महिला को जरूरी दवाइयां भी दी जाएंगी।

(डा. जीएस राणा, सीएमओ, चमोली)

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story