"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

कोरोना का खौफ : अपनों की अस्थियां ले जाने से कतरा रहे परिजन, अस्थि कलश ले जाने वालों की संख्या नाम मात्र 

  
कोरोना का खौफ : अपनों की अस्थियां ले जाने से कतरा रहे परिजन, अस्थि कलश ले जाने वालों की संख्या नाम मात्र

हल्द्वानी : कोरोना से बिगड़े हालातों में हर दिन मरने वालों का आंकड़ा बढ़ रहा है। यहां राजपुरा मुक्ति धाम में मृतकों का अंतिम संस्कार हो रहा है। मृतक के परिजन उनका अंतिम दर्शन भी ठीक से नहीं कर पा रहे हैं।

इधर, कोविड का खौफ इतना है कि लोग अस्थियां लेने नहीं आ रहे हैं। अस्थि कलश ले जाने वालों की संख्या नाम मात्र है। मुक्ति धाम के मुंशी मृगराजन बताते हैं कि जो लोग तीन दिन बाद फूल चुनने को आने की बात कह रहे हैं उनके मृतक परिजन की चिता की राख हटाई नहीं जा रही है।

अन्य लोगों से पूछा जा रहा है। कोरोना से मरने वालों के पहाड़ या अन्य जगहों के लोगों के अधिकांश परिजन संक्रमण के बीच पाबंदियों में हरिद्वार जाने की अस्मर्थता जता रहे हैं। ऐसी चिताओं की अस्थियों को अपने स्तर पर विसर्जित करवा रहे हैं।

बताया कि घाट के अस्थि कलश कक्ष में अभी करीब 35 कलश रखे हुए हैं। बताया कि कोरोना से मरने वालों के शवों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में काफी दिक्कत हो रही है। चिंता की बता है कि उत्तराखंड में कोरोना मौतों का आंकड़ा 2146 पहुंच गया है, जबकि कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के पार हो गई है। 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story