"क्योंकि सच जानना आपका हक है"

×

प्रत्येक क्षेत्रों में आगे बढ़ रहे प्रयासों में "भारतीय नारी"

  

राघवेंद्र कुमार : जब बात आती है भारतीय नारी की तो अतीत में बीते कई घटनाओं की यादें आती हैं जो कहीं ना कहीं नारी शक्ति का शौर्य एवं पराक्रम देखने को मिलता है। हालाकी मित्रों भारत में अतीत की अपेक्षा वर्तमान नारी शक्ति तेजी से परिवर्तन हुए हैं जो कि 1940-50 के दशको में महिलाओं को पुरुष के बराबर अधिकार नहीं था।

लेकिन संविधान सभा द्वारा निर्मित भारतीय संविधान में महिलाओं एवं पुरुषों दोनों के लिए समान अधिकार बनाए गए हैं फिर भी 1956 से अब तक लगभग 50 से भी ज्यादा कानून महिलाओं के हित में बनाए जा चुके हैं जिससे महिला समाज को आगे बढ़ने का अवसर मिल सके और अपनी सफलता को बयां कर  सके।

लेकिन अब बात आती है भारतीय समाज की तो यह समाज ऐसा कुछ बिल्कुल नहीं करता जिससे नारी शक्ति को आगे बढ़ने का अवसर प्रदान हो सके और यही कारण है कि आज कई क्षेत्रों में भारत पीछे है।

फिर भी भारतीय नारी वह शक्ति है जो इतने चुनौतियों का सामना करते हुए भी धरा पर लगभग प्रत्येक क्षेत्रों में नाम कमाया है जो लोकतंत्र से लेकर कार्यपालिका ,न्यायपालिका, विधान पालिका जैसे क्षेत्रों में भी अपना प्रदर्शन किया है।

हालांकि मित्रों वर्तमान दौर में  देखा जाए तो महिलाएं विधानसभा चुनाव से लेकर राज्यसभा एवं सबसे छोटी इकाई ग्राम सभा के चुनावों में भी बढ़-चढ़कर भाग ले रही हैं अर्थात मित्रों वर्तमान नारी शक्ति का प्रसार इतना सुदृढ़ हो गया है कि कोई भी क्षेत्र इनके नजरों से अछूता नहीं है रहा है चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या चिकित्सा, सेना, पुलिस, प्रशासन, टूर्नामेंट, बिजनेस, बैंकिंग, वैज्ञानिक, मीडिया या पत्रकार, समाज सुधार जैसे कई अन्य क्षेत्रों में भी नारी शक्ति ने अपना परिचय दिखाया हैl

गायकी की दुनिया में देखे तो लता मंगेशकर से बड़ा शायद ही कोई नाम है या होगा और राजनीतिक क्षेत्रों में देखे तो सुषमा स्वराज बीजेपी के सबसे ताकतवर महिला नेताओं में नाम आता है जो भारत की विदेश मंत्री रह चुकी हैं। टेनिस प्लेयर में सानिया मिर्जा का नाम दोस्तों सभी को बखूबी मालूम होगा कि उन्होंने सबसे कम उम्र में पद्मश्री पाने वाली टेनिस प्लेयर हैं जो आज तक इतनी कम उम्र में पद्मश्री नहीं हासिल कर सका हालांकि इस धरा पर नारी शक्ति के लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

जैसा कि देश के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी जी की पत्नी नीता अंबानी जी ने ना केवल पत्नी होने का फर्ज निभाया बल्कि इन्होंने घाटे में चल रही कंपनी को उबारने के साथ-साथ सफल बिजनेस वुमन भी है। तो दोस्तों इस लेख का मात्र इतना ही मकसद है की नारी शक्ति वो शक्ति है जो स्त्री के लिए सब कुछ संभव है जो चाहे वह कर सकती हैं।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही और भी Hindi News ( हिंदी समाचार ) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Share this story