Indian Railway: यात्रियों को रेल द्वारा दी गई सबसे बड़ी गिफ्ट, अब हर समय मिलेगा कन्फर्म टिकट

Indian Railway: रेलवे ने रेल यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टिकट कंफर्म को लेकर होने वाली परेशानी को दूर करने के लिए एक बेहतरीन प्रोजेक्ट लॉन्च किया है। 
Indian Railway: यात्रियों को रेल द्वारा दी गई सबसे बड़ी गिफ्ट, अब हर समय मिलेगा कन्फर्म टिकट

Indian Railway: रेलवे ने रेल यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए टिकट कंफर्म को लेकर होने वाली परेशानी को दूर करने के लिए एक बेहतरीन प्रोजेक्ट लॉन्च किया है। अभी चलती ट्रेन में वेटिंग या आरएसी टिकट को कंफर्म कराने के लिए टीटी से अनुरोध करना परता है।

लेकिन अब ऐसा नहीं होगा, रेल मंत्रालय (Ministry of Railways) ने एक फैसला लिया है जिससे अब यात्रियों को इससे जुड़ी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। रेलवे प्रीमियम, मेल और एक्‍सप्रेसव ट्रेनों के टीटी को हैंड हेल्‍ड टर्मिनल-एचएचटी (Hand Held Terminal Device) उप्लब्ध कराएगी।

इसकी शुरुआत कुछ प्रीमियम ट्रेन के जरिए कर दी गई है। इसकी मदद से वेटिंग या आरएसी टिकट को आसानी कंफर्म किया जा सकेगा।

रेलवे ने लिया है यह बड़ा फैसला:

भारतीय रेलवे के द्वारा इसे पायलट प्रोजेक्‍ट के तौर पर कुछ प्रीमियम ट्रेनों जैसे राजधानी और शताब्‍दी में टीटी को एचएचटी डिवाइस उप्लब्ध कराई गई थी। इससे यात्रियों को काफी फायदा हुआ। इसके द्वारा यात्रियों के वेटिंग और आरएसी टिकट चार्ट बनने के बाद चलती ट्रेन में बहुत ही आसानी से कंफर्म हो गए और

उनके पास मैसेज पहुँच गया। रेलवे का यह प्रोजेक्ट सफल रहा और अब 559 ट्रेनों में टीटी को 5850 एचएचटी डिवाइस उप्लब्ध करा दी गई है। रेलवे यह डिवाइस धीरे धीरे सभी मेल एक्‍सप्रेस ट्रेनों में दे देगी।

डिवाइस का किया गया टेस्ट:

रेलवे बोर्ड का कहना है कि चलती ट्रेन में एक दिन में 523604 रिजर्वेशन हुए हैं, जिसमें चलती ट्रेन में 242825 टिकट की जांच एचएचटी डिवाइस के द्वारा की गई है। इसमें से 18 हजार से अधिक आरएसी और नौ हजार से अधिक वेटिंग टिकट को कंफर्म किया गया है।

रेलवे मंत्रालय की माने तो सामान्‍य दिनों में प्रतिदिन 12.5 लाख रिजर्वेशन किए जाते हैं। इस तरह अगर मेल, एक्‍सप्रेस ट्रेनों में एचएचटी डिवाइस से टिकटों की जांच होनी शुरू हो जाए तो कंफर्म होने वाले टिकटों की संख्या बढ़ने लगेगी।

अभी चेकिंग का तरीका:

ज्यादातर ट्रेनों में अभी टीटी के द्वारा चार्ट लेकर टिकट की चेकिंग की जाती है। ऐसे बर्थ जिनपर यात्री नहीं पहुँचते हैं, उसे मार्क कर वेटिंग या आरएसी टिकट वालो को दे दी जाती है। किंतु यह पूरी तरह टीटी पर निर्भर करता है कि वह किसे सीट अलोट करे। आपको बता दें की कई बार टीटी सीट कंफर्म करने के लिए सौदेबाजी भी करने लगते हैं।

Share this story

Around The Web