Washing Machine: बिना पानी और डिटर्जेंट के साफ होंगे कपड़े, सिर्फ 1 मिनट में मैले कपड़े साफ करेगा ये मशीन

कपड़े धोने में सैकड़ों लीटर पानी बर्बाद हो जाता है। डिटर्जेंट मेरी त्वचा के साथ -साथ कपड़े के कपड़े भी खराब करने के लिए अच्छे नहीं हैं।
Washing Machine: बिना पानी और डिटर्जेंट के साफ होंगे कपड़े, सिर्फ 1 मिनट में मैले कपड़े साफ करेगा ये मशीन

Washing Machine: कपड़े को धोने में बहुत मेहनत लगती है और इसके साथ ही इसमें पानी की भी ज्यादा खपत होती है। वॉशिंग मशीनके घर मे नहीं होने से कपड़े धोने का काम और भी कठिन हो जाता है। आपको बता दें कि कपड़े धोने वाली मशीन के जरिए कपड़े धोने में अधिक पानी और डिटर्जेंट का प्रयोग किया जाता है।

कपड़े धोने में सैकड़ों लीटर पानी बर्बाद हो जाता है। डिटर्जेंट मेरी त्वचा के साथ -साथ कपड़े के कपड़े भी खराब करने के लिए अच्छे नहीं हैं। लेकिन एक स्टार्टअप कंपनी ने एक समाधान निकाला है जो 80 सेकंड में कपड़े उज्ज्वल करेगा। यह ज्यादा पानी या डिटर्जेंट नहीं लेगा। आइए इसके बारे में जानें।

80 सेकंड में इस वॉशिंग मशीन से कपड़े करें साफ:

चंडीगढ़ की स्टार्टअप कंपनी 80 वॉश के द्वारा दो प्रमुख समस्याओं पर काम किया जा रहा है। इनमें से एक है स्वचालित और दूसरा है डिटर्जेंट जिसके नाम पर उपयोग किए जाने वाले मशीनों और रसायनों में खर्च किया गया अतिरिक्त पानी है।

रुबल गुप्ता, नितिन कुमार सलूजा और विरेंद्र सिंह ने 80 वॉश कंपनियां शुरू की हैं। उनकी वॉशिंग मशीन 80 सेकंड में कपड़े साफ कर सकती है। हालांकि, ध्यान रखें कि दाग और कपड़ों के आधार पर सफाई का समय बढ़ सकता है।

पीपीई किट को भी कर सकते हैं साफ:

इस वॉशिंग मशीन में आईएसपी स्टीम तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। यह कम रेडियो फ्रीक्वेंसी पर सर्वश्रेष्ठ माइक्रोवेव का उपयोग करके बैक्टीरिया को मार सकती है। इसकी मदद से मेटल कॉम्पोनेन्ट के साथ ही पीपीई किट को भी साफ किया जा सकता है।

आधा कप पानी में 5 कपड़े धोएं:

इस मशीन की मदद से दाग, धूल के साथ ही पेंट लगे कपड़ों को आसानी से साफ किया जा सकता है। इसमें एक शुष्क भाप जनरेटर का उपयोग किया गया है। इसके द्वारा 80 सेकंड 5 कपड़े धोए जा सकते हैं। वो भी केवल आधा कप पानी का उपयोग करके।

7-8 किग्रा मॉडल की यह क्षमता है। 80 किग्रा मॉडल में आपको 50 कपड़ों को साफ करने की क्षमता देखने को मिल जाती है। वहीं यह केवल 5 से 6 गिलास पानी का उपयोग करता है।

इस वॉशिंग मशीन को अभी बाजार में नहीं किया गया है पेश:

इस मशीन को अभी बाजार में नहीं उप्लब्ध कराया गया है। अभी इसके पायलट परियोजना को चलाया जा रहा है। इसका उपयोग चंडीगढ़, पंचकुला और मोहाली के कुछ अस्पतालों में किया जा रहा है। पंजाब और हरियाणा सरकारों ने इस स्टार्टअप को मंजूरी दे दी है।

Share this story

Around The Web