'कैच द रेन' अभियान : बिलासपुर जिला में बनेंगे 75 अमृत सरोवर

'कैच द रेन' अभियान : बिलासपुर जिला में बनेंगे 75 अमृत सरोवर


बिलासपुर , 10 मई (हि.स.)। जल शक्ति विभाग द्वारा चलाये जा रहे ‘कैच द रेन’ अभियान की जिला स्तरीय समिति की समीक्षा बैठक उपायुक्त पंकज राय की अध्यक्षता में आयोजित की गई।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने बताया कि ‘कैच द रेन’ अभियान का मुख्य उद्देश्य वर्षा जल का अधिकतम संग्रहण करना तथा पुनः चक्र और ग्रे वाटर के पुनः उपयोग और अपशिष्ट जल प्रबंधन के बारे में जागरूकता पैदा करना है। अभियान के दौरान सभी मौजूदा पारंपरिक जल संचयन संरचनाओं की गणना तथा भू टैगिंग के साथ-साथ जिला स्तरीय वैज्ञानिक जल संरक्षण योजना विकसित की जा रही है।

उपायुक्त ने बताया कि अभियान के दौरान जिला में 75 अमृत सरोवर का निर्माण किया जा रहा है जिनका शुभारम्भ कर दिया गया है और 15 अगस्त 2022 तक निर्माण पूर्ण कर लिया जाएगा। बैठक में ग्रामीण क्षेत्रों मे दूषित पानी के प्रबंधन, पारम्परिक जल स्रोतों के नवीनीकरण तथा शहरी क्षेत्रों में दूषित पानी के प्रबंधन, बोर और कुओं को रिचार्ज कर पुनः उपयोगी बनाने जैसी विभिन्न प्रकार की जल संचयन संरचनाओं के लक्ष्य निर्धारित किए गए।

उन्होने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को पंचायतों में नए निर्मित किये जा रहे विभिन्न भवनों में छत जल संग्रहण संरचना का निर्माण करने के निर्देश दिये।

उन्होने बताया कि जिला में कैच दी रेन अभियान के तहत 826 प्राकृतिक जल स्रोतों की पहचान कर उनकी जियो टैगिंग की जा रही है

उन्होने बताया कि कैच दी रेन अभियान के दौरान 360 हेक्टेयर क्षेत्र में हरड, बेहडा तथा आंबला के पौधौ का रोपण भी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अभियान के अंतर्गत सभी कार्य स्वच्छ भारत मिशन तथा मनरेगा के तहत किये जायेगें तथा कार्यो को पूर्ण करने का लक्ष्य 30 नवंबर 2022 निर्धारित किया गया है।

उन्होंने जल शक्ति विभाग तथा खण्ड विकास अधिकारियों को इस अभियान को गति देने तथा जल संरक्षण के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होने लोगों से अपील की कि वे अपने घरों में वर्षा जल संग्रहण के प्रयास करें।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त तोरूल रवीश, जल शक्ति विभाग अधीक्षण अभियंता विजय कुमार, अधीशाषी अभियंता डिजाईन सतीश शर्मा, सहायक अभियंता जल शक्ति घुमारवीं यशपाल शर्मा, सहायक अभियंता जल शक्ति घुमारवी मस्त राम चौहान, कार्यकारी अधिकारी नगर परिषद उवर्शी वालिया, परियोजना अधिकारी जिला ग्रामीण विकास अभिकरण राजिन्द्र गौतम, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/ मनीष/उज्जवल

Share this story

Around The Web