महेंद्रगढ़ में 55 स्ट्रीट सिचुएशन बच्चे चिन्हित: डॉ. आभीर

महेंद्रगढ़ में 55 स्ट्रीट सिचुएशन बच्चे चिन्हित: डॉ. आभीर


नारनौल, 10 मई (हि.स.)। महिला एवं बाल विकास विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. जी अनुपमा ने मंगलवार को बाल संरक्षण के संबंध में राज्य के सभी उपायुक्तों की वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बैठक ली। इस बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने निराश्रित और अनाथ बच्चों के लिए हरिहर जैसी महत्वपूर्ण योजना चलाई है। ऐसे में इस श्रेणी में आने वाले बच्चों को तुरंत चिन्हित किया जाए।

उन्होंने बताया कि हरिहर योजना के तहत राज्य सरकार के बाल गृह में पंजीकृत होने पर सभी निराश्रित और अनाथ बच्चों की शिक्षा और पालन-पोषण का खर्च वहन कर रही है। जब यह बच्चा बाल गृह में रहते हुए 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर लेगा तब उसे अनुग्रह राशि का लाभ देकर ग्रुप सी और ग्रुप डी की नौकरी दी जाएगी। नौकरी पाने के लिए बच्चों को किसी प्रकार की परीक्षा नहीं देनी होगी।

उपायुक्त डॉ. जेके आभीर ने बताया कि जिला महेन्द्रगढ़ में फरवरी 2022 से अब तक स्ट्रीट सिचुएशन चिल्ड्रन के विषय में किए गए सर्वे के तहत जिला बाल संरक्षण इकाई व बाल कल्याण समिति की संयुक्त टीम के माध्यम से 55 स्ट्रीट सिचुएशन बच्चों को चिन्हित किया गया है। सभी 55 बच्चों के सन्दर्भ में बाल स्वराज पोर्टल की सभी प्रक्रियाओं को पूर्ण किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि इन 55 बच्चों में से 54 बच्चों को शिक्षा विभाग के माध्यम से सरकारी स्कूल में पंजीकृत करवा दिया गया है। एक बच्चे की उम्र 6 वर्ष से कम होने के कारण उसे आगंनवाड़ी में पंजीकृत किया गया है। वर्तमान में इन 55 बच्चों में से 11 बच्चे अपने मूल निवास स्थान पर परिवार सहित वापिस चले गए है तथा बाकि 44 बच्चों को सरकार की स्कीम के तहत स्वास्थ्य विभाग से हेल्थ कार्ड जारी करवा दिए गए है।

हिन्दुस्थान समाचार/श्याम/संजीव

Share this story

Around The Web