विधि विधान से खुले भैरवनाथ के कपाट

विधि विधान से खुले भैरवनाथ के कपाट


गुप्तकाशी, 10 मई (हि.स.)। बाबा केदारनाथ जी के अग्रवीर भुकुंड भैरवनाथ के कपाट मंगलवार को आम तीर्थ यात्रियों एवं श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। इस दौरान हक-हकूकधारियों सहित सैकड़ों की तादाद में तीर्थयात्री शामिल थे।

मान्यता है कि भैरवनाथ के कपाट खुलने के बाद ही बाबा केदारनाथ की आरती शुरू की जाती है। यह भी मान्यता है कि यह कपाट शनिवार या मंगलवार को ही खोले जाते हैं। मुख्य पुजारी एवं वेद पाठियों की वेद ऋचाओं और भोले नाथ के जयनाद के बीच विधि विधान से पूजा अर्चना कर बाबा भूखंड भैरव की मूर्तियों का शुद्धीकरण कर आरती उतारी गई। इससे पूर्व भैरव से केदारनाथ के बीच वाद्य यंत्रों की स्वर लहरी के बीच सैकड़ों तीर्थ यात्रियों ने भैरवनाथ की प्रत्यक्ष दर्शन किए।

केदारनाथ के कपाट बंद होने से पूर्व भूखंड भैरव के कपाट बंद होने की प्रक्रिया की जाती है ,लेकिन बाबा केदारनाथ जी के कपाट खुलने के बाद ही भैरव के कपाट तीर्थयात्रियों और श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाते हैं। इसके बाद ही केदारनाथ में विधिवत पूजा-अर्चना और आरती शुरू की जाती है।

हिन्दुस्थान समाचार/ बिपिन सेमवाल

Share this story

Around The Web