एक ट्रक ड्राइवर का बेटा बना आईएएस अफसर ,जानिए किन विपरीत परिस्थितियों में हासिल की सफलता

कहा जाता है कि अगर आप में कुछ करने का जज्बा हो और मन पर भरोसा हो तो मुश्किल से मुश्किल हालात में भी आप सफलता के शिखर पर पहुंच जाते हैं। 
एक ट्रक ड्राइवर का बेटा बना आईएएस अफसर ,जानिए किन विपरीत परिस्थितियों में हासिल की सफलता

कहा जाता है कि अगर आप में कुछ करने का जज्बा हो और मन पर भरोसा हो तो मुश्किल से मुश्किल हालात में भी आप सफलता के शिखर पर पहुंच जाते हैं। कुछ ऐसा राजस्थान के ट्रक ड्राइवर का बेटा जिसने असंभव को संभव किया, जिसने कड़ी मेहनत की और देश की सबसे बड़ी यूपीएससी परीक्षा पास की।

यानी ट्रक ड्राइवर का बेटा अब आईएएस अफसर है. चयन देश भर में 551 की स्थिति में किया गया था। हम जानते हैं कि संघ लोक सेवा आयोग ने 2021 सिविल सेवा परीक्षा का अंतिम परिणाम सोमवार को प्रकाशित किया है।

ट्रक चालक के सामने मिट्टी के बर्तन बनाते पिता

दरअसल, सफलता का झंडा फहराने वाले इस होनहार छात्र का नाम पवन कुमार कुमावत है. जिन लोगों का चयन किया गया, वे देश भर में 551वें स्थान पर हैं। पवन मूल रूप से नागौर क्षेत्र के सुमना के रहने वाले हैं। उनके पिता रामेश्वरलाल ने ट्रक चलाकर अपने बेटे की परवरिश की।

पवन की पढ़ाई शहर के पब्लिक स्कूल से शुरू हुई। ट्रक चालक के सामने पिता ने शहर में ही मिट्टी के बर्तन बनाए। उन्होंने अपने बेटे को शिक्षित करने के लिए गाँव छोड़ दिया और नागौर में रहने लगे। काम नहीं मिलने पर वह गाड़ी चलाने लगा। यहीं से पवन ने आग पर पढ़ाई पूरी की। हालांकि वह आगे की पढ़ाई के लिए राजधानी जयपुर भी गए हैं।

दादी के मंत्र ने दी सफलता

पवन ने कहा कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि मुझे ऐसे माता-पिता मिले। जो मेरा करियर बनाने के लिए दिन-रात जुटे रहे। मैंने केवल अपनी सफलता का सपना देखा था। जिसे आपने अब पूरा कर लिया है। घर में बिजली नहीं थी। कभी-कभी वे पड़ोस से फोन भी लेते थे।

कभी-कभी वह लालटेन या चिमनी के बगल में अध्ययन करता था। मैंने अपने परिवार के समर्थन से अपनी पढ़ाई को प्राथमिकता दी। दादी कहती थीं भगवान के घर में देर हो गई है, अँधेरा नहीं है। अपना काम करो और परिणाम की चिंता मत करो। मैं इसे आदर्श वाक्य बनाने के लिए लगातार प्रयास करता रहा।

परिवार झोपड़ी में रहता था, जहां रोशनी नहीं थी 

पवन ने कहा कि जब हम गांव से नागूर पहुंचे तो पिता उस समय चार हजार की तनख्वाह ले रहे थे। जहां मेरी पढ़ाई और घर का खर्चा चलता था। लेकिन मैंने अपने पिताजी को इतना घबराए हुए कभी नहीं देखा कि वे मुझे कैसे पढ़ाएंगे। उनका कहना था कि अगर आप मन लगाकर पढ़ेंगे तो आपको वही मिलेगा जो आप चाहते हैं।

चिंता मत करो हम एक झोपड़ी में रहते थे, जहाँ कभी रोशनी होती थी और कभी नहीं होती थी। घर में बिजली नहीं थी। कभी-कभी वे पड़ोस से फोन भी लेते थे। कभी-कभी वह लालटेन या चिमनी के बगल में अध्ययन करता था। बाओन ने कहा कि मेरे पिता ने आठवीं तक पढ़ाई की थी, लेकिन उन्होंने मुझे पढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

अखबार में हेडलाइन देखकर आईएएस बनने की ठान ली

आपको बता दें कि पवन की सफलता के पीछे उनका आत्मविश्वास और दृढ़ संकल्प है। उन्होंने कहा कि 2006 में एक रिक्शा चालक के बेटे गोविंद जायसवाल आईएएस अधिकारी बने। अखबार में उनकी खबर छपी और तभी मैंने उनकी हेडलाइन देखी और ठान लिया कि अब मैं आईएएस बनूंगा।

उन्होंने अपने मंत्रों का पालन किया और लगन से तैयारी की, और परिणाम संतोषजनक रहा। पवन ने कहा कि कई बार ऐसा हुआ कि पिता को पढ़ाई के लिए कर्ज लेना पड़ा। उसने ट्रेनिंग के लिए कर्ज भी लिया था। एक समय था जब स्कूल की फीस भरने के लिए भी पैसे नहीं थे।

Share this story

Around The Web