Raksha Bandhan 2022: इस साल 11 या 12 अगस्त को कब है रक्षा बंधन?, जानिए कब बांधनी है भाई को राखी

हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का पर्व श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।
Raksha Bandhan 2022: इस साल 11 या 12 अगस्त को कब है रक्षा बंधन?, जानिए कब बांधनी है भाई को राखी

रक्षा बंधन 2022 : अभी श्रावण मास चल रहा है और कुछ ही दिनों में श्रावण मास का दूसरा पर्व रक्षा बंधन 2022 आ गया है. रक्षाबंधन भाई-बहन के प्यार का बंधन है। हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का पर्व श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

इस दिन बहनें भाई के हाथ पर राखी बांधकर अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती हैं। बदले में भाई अपनी बहन की जीवन भर रक्षा करने का वचन देता है। बहनें साल भर रक्षाबंधन के त्योहार का इंतजार करती हैं।

इस बार रक्षा बंधन के दिन (रक्षा बंधन तिथि)भद्रा की छाया होने के कारण लोग असमंजस में हैं कि यह 11 अगस्त को मनाया जाएगा या 12 अगस्त को। क्योंकि कुछ ज्योतिषी कह रहे हैं कि 11 अगस्त रक्षाबंधन का पर्व है तो कुछ लोग इस पर्व को 12 अगस्त को मनाने का सुझाव दे रहे हैं।

ऐसे में आइए जानते हैं रक्षाबंधन की सही तारीख और राखी बांधने का शुभ मुहूर्त।

11 या 12 अगस्त को रक्षाबंधन को जानकर मनाएं :

श्रावण मास की पूर्णिमा 11 अगस्त को सुबह 10:39 बजे से शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 7:05 बजे समाप्त होगी. ऐसे में राखी का पर्व 11 अगस्त को मनाया जाएगा। हालांकि इस दिन फिर से भद्रकाल सुबह शुरू होकर रात 8.51 बजे खत्म होगा।

तो तकनीकी रूप से उसके बाद राखी बांधी जा सकती है, यही वजह है कि 12 अगस्त को कई लोग रक्षाबंधन मनाते हैं। हिंदू धर्म में ऐसा माना जाता है कि सूर्यास्त के बाद कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है।

इसलिए कई बहनें 11 अगस्त की रात राखी बांधना पसंद नहीं करती हैं। 12 तारीख को बहुत से लोग जश्न मनाएंगे। लेकिन याद रहे, 12 तारीख को सुबह 7.05 बजे से पहले आपको अपने भाई की कलाई पर राखी बांधनी है।

ज्योतिषी अनुपम वी कहते हैं, ‘परंपरावादियों को सुबह 12 बजे व्रत करना चाहिए। क्योंकि रक्षा बंधन हमेशा पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है।

भाई को राखी बांधने का सही तरीका :

रक्षाबंधन पर अपने भाई को राखी बांधने से पहले स्नान करें अपने भाई की राशि के अनुसार थाली में रोल, चंदन, अक्षत, दही, मिठाई, शुद्ध घी का दीपक और धागा, रेशम या सूती राखी रखें।

इसके बाद अपने भाई को पूर्व या उत्तर दिशा में बैठाएं या खड़े हो जाएं। उसके बाद भाई के माथे पर टीला लगाएं और उसके दाहिने हाथ की कलाई पर रक्षासूत्र या राखी बांधें। इसके बाद भाई को मिठाई खिलाकर उसके उज्जवल भविष्य एवं लंबी आयु की कामना करनी चाहिए।

Share this story

Around The Web