मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह गरीबों की बेटियों के हाथ पीले कराएगा

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह गरीबों की बेटियों के हाथ पीले कराएगा


- जनपद में डेढ़ सौ जोड़ों का सामूहिक विवाह कराने का लक्ष्य

- 10 जून को विवाह का शुभ मुहूर्त, नामित किए गए नोडल अधिकारी

मीरजापुर, 10 मई (हि.स.)। अगर आप आर्थिक रूप से कमजोर हैं, बेटी हाथ पीले करने योग्य हो गई तो जरा भी चिंता करने की बात नहीं। सीएम योगी हैं न? मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत आप की लाडली अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे तो लेगी ही लेगी। सरकारी खर्चे पर वैवाहिक कार्यक्रम के लिए सारे साजो सामान होंगे, वर-वधुओं की ओर से आने वाले घरातियों व बरातियों की जम कर खातिरदारी भी होगी। विवाह सम्पन्न होने के बाद बेटी की गृहस्थी संचालन में सहयोग के लिए 35 हजार रुपये का सहयोग भी सरकार की ओर से प्रदान किया जाएगा।

कुछ ऐसी ही मंशा के साथ जनपद में 10 जून को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन नगर के महुअरिया स्थित राजकीय इंटरमीडिएट कालेज के मैदान पर होगा। सामूहिक विवाह के आयोजन के लिए सिटी ब्लाक के बीडीओ को नोडल अधिकारी डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार ने किया है। विवाह के लिए वर-वधुओं का पंजीकरण 30 मई तक कराया जाएगा। इसके बाद प्राप्त आवेदनों का वेरीफिकेशन कार्य किया जाएगा। जनपद में सामूहिक विवाह कराने का लगभग 150 का लक्ष्य दिया गया है। इवेंट मैनेंजमेंट के लिए अभी से तैयारियां शुरु कर दी गईं हैं। कोविड-19 प्रोटोकाल के अनुसार कार्यक्रम होंगे। जनपद के सभी ब्लाकों एवं नगर पालिका परिषदों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

जिला समाज कल्याण अधिकारी गिरीश चंद्र दुबे ने बताया कि 10 जून जनपद में होने वाले मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के लिए अभी से आवश्यक तैयारियां शुरू कर दी गईं हैं। सम्बंधित विभागों के अधिकारियों के साथ ही नगर पालिका परिषदों, ब्लाक स्तरीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दे दिए गए हैं।

ईओ ने पंजीकरण कराने की अपील की

नगर पालिका परिषद मीरजापुर के अधिशासी अधिकारी ओमप्रकाश ने नगर पालिका क्षेत्र में निवास करने वाले लोगों से मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में विवाह कराने के इच्छुक लोगों से 30 मई तक पंजीकरण कराने की अपील की है। उन्होंने बताया कि इसके बाद आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों का सत्यापन किया जाएगा। 10 जून को सामूहिक विवाह होगा।

दिव्यांग से विवाह पर मिलेगा पुरस्कार

दिव्यांजन सशक्तिकरण विभाग की ओर से दिव्यांगजनों से शादी करने पर दिव्यांग दम्पती को शादी के बाद 35 हजार रुपये बतौर पुरस्कार दिया जाएगा। यह जानकारी देते हुए जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी राजेश कुमार सोनकर ने बताया कि कुल पुरस्कार राशि में वर के दिव्यांग होने पर 15 हजार जबकि वधु के दिव्यांग होने पर 20 हजार रुपये और दोनों के दिव्यांग होने पर 35 हजार रुपये पुरस्कार के रूप में प्रदान किया जाएगा।

हिन्दुस्थान समाचार/ गिरजा शंकर

Share this story

Around The Web