चक्रवात असनी का दिख रहा असर, 40 के पार नहीं पहुंच रहा पारा

चक्रवात असनी का दिख रहा असर, 40 के पार नहीं पहुंच रहा पारा


— भीषण लू से लोगों को मिल रही हल्की राहत

कानपुर, 10 मई (हि.स.)। बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के चलते एक सप्ताह पहले तापमान करीब पांच डिग्री सेल्सियस गिर गया। इसके बाद समुद्री गतिविधियों से चक्रवात असनी का भी असर दिखने लगा और पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पार नहीं पहुंच पा रहा है। इससे कुछ हद तक लोगों को भीषण लू से राहत मिलती दिख रही है।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. एस एन सुनील पाण्डेय ने मंगलवार को बताया कि समुद्री तूफान असानी पश्चिम मध्य और उससे सटे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ है। यह 10 मई की रात तक उत्तर-पश्चिम दिशा में दक्षिण ओडिशा और उत्तरी आंध्र प्रदेश तट की ओर बढ़ना जारी रखेगा और विशाखापत्तनम के पास पहुंच जाएगा। इसके बाद यह उत्तर-पूर्व दिशा में मुड़ेगा और ओडिशा तट के साथ आगे बढ़ेगा। यह आज रात तक कमजोर होकर चक्रवात में बदल जाएगा और 11 मई तक गहरे दबाव में बदल जाएगा। उत्तरी पाकिस्तान और आसपास के क्षेत्र पर पश्चिमी विक्षोभ देखा जा सकता है। एक प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य पाकिस्तान के ऊपर बना हुआ है। एक ट्रफ रेखा पंजाब से दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश तक और दूसरी ट्रफ रेखा विदर्भ से तटीय आंध्र प्रदेश तक फैली हुई है।

बताया कि कानपुर मण्डल में बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाएं दिन को उमस भरा एवं सुबह शाम को सुहावना बनाए रखेंगी ऊंचे बादल भी बने रहेंगे। अधिकतम तापमान 39 और न्यूनतम तापमान 27.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह की सापेक्षिक आर्द्रता 67 और दोपहर की 40 प्रतिशत रही। हवाओं की दिशाएं दक्षिण पूर्व रहीं जिनकी औसत गति 8.1 किमी प्रति घंटा रही। बताया कि भारतीय मौसम विभाग से प्राप्त मौसम पूर्वानुमान के अनुसार, अगले दो दिनों में हल्की से मध्यम बादल छाए रहने के साथ उमस एवं गर्मी बने रहने आसार हैं किंतु वर्षा की कोई संभावना नहीं है तथा दिन का तापमान अधिक एवं हवाओं की गति तेज रहने के आसार हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/अजय

Share this story

Around The Web