मारुति की वैगनआर ने मचाया ऐसा गदर कि जीत लिया सबका दिल, बस 50 हजार में बनें गाड़ी के मालिक, जानिए डिटेल

वैगनआर इन दिनों गर्दा मचाए हुए है, जिसे लोगों का रिस्पॉन्स अच्छा मिल रहा है।
मारुति की वैगनआर ने मचाया ऐसा गदर कि जीत लिया सबका दिल, बस 50 हजार में बनें गाड़ी के मालिक, जानिए डिटेल

वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के दाम महंगे होने से भारतीय मार्केट में पेट्रोल-डीजल की कीमतें बेलगाम हैं। इससे आम लोगों की जेब पर भारी असर पड़ रहा है। इस बीच देश की धांसू ऑटो कंपनियों ने भी अपना रूख बदल लिया है, जो इन दिनों सीएनजी गाड़ियों की लॉन्चिंग के लिए काम कर रही हैं।

पेट्रोल की कीमत ज्यादा होने से सीएनजी वेरिएंट की सेल में काफी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। देश की सबसे धांसू कंपनियों में गिने जाने वाली मारुति सुजुकी की वैगनआर इन दिनों गर्दा मचाए हुए है।

जिसे लोगों का रिस्पॉन्स अच्छा मिल रहा है वैगनआर की बिक्री की बात करें तो जून माह में नंबर एक पर रही है। यह फैमली कार के तौर पर लोगों के बीच काफी जगह बनाने में कामयाब साबित हुई है। इसके सीएनजी वेरिएंट की इस समय जबरदस्त डिमांड है।

  • जानिए गाड़ी का डाउन पेमेंट :

मारुति सुजुकी की वैगनआर को कम कीमत, शानदार माइलेज, कम खर्चीला और इसकी अच्छी रिसेल वेल्यू होने की वजह से ग्राहक काफी पसंद करते हैं।

अगर आप मारुति वैगनआर की 50000 रुपये डाउन पेमेंट देते है तो उसके बाद हर महीने आपको कितनी EMI देनी चुकानी होगी।

  • जानिए गाड़ी के फीचर्स :

Maruti WagonR S-CNG में 1.0-लीटर, तीन-सिलेंडर पेट्रोल इंजन दिया गया है जो कि सीएनजी मोड में 58 bhp पावर और 78 nm टॉर्क जनरेट कर सकता है।

पेट्रोल मोड में ये इंजन 81 bhp पावर और 113 nm टॉर्क जनरेट करता है और साथ ही S-CNG वेरिएंट 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स के साथ आता है।

Maruti WagonR S-CNG डुअल इंटरडिपेंडेंट ECUs (इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोल यूनिट्स) और इंटेलिजेंट इंजेक्शन सिस्टम के साथ आती है।

  • जानिए कितनी देनी होगी ईएमआई :

अगर आप 50,000 रुपये की डाउन पेमेंट देकर मारुति सुजुकी वैगनआर एलएक्सआई सीएनजी वेरिएंट खरीदते है तो इसपर 9 प्रतिशत इंटरेस्ट रेट के हिसाब से 5 साल के लिए कार की ईएमआई 13864 रुपये की EMI हर महीने बनेगी।

5 साल में 163949 रुपए आपको ब्याज के रूप में देने होंगे मारुति वैगनआर पर मिलने वाले लोन, डाउन पेमेंट और ब्याज दरें आपकी बैंकिंग और सिबिल स्कोर पर भी निर्भर करती हैं।

अगर आपकी बैंकिंग या सिबिल स्कोर में कुछ निगेटिव रिपोर्ट है तो यह दरें आपके लिए बदल सकती हैं।

Share this story

Around The Web